पीएम मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल के प्रथम मन की बात में जल संकट पर जताई चिंता


RAGHVENDRA CHAURASIA 30/06/2019 14:02 PM
61 Views

New Delhi. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल के प्रथम मन की बात में जल संकट पर चिंता जताई है। पीएम ने रविवार को पहली बार देशवासियों के साथ रेडियो पर मन की बात की। पीएम ने जल संरक्षण की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले व्यक्तियों का स्वंय सेवी संस्थाओं का और इसे क्षेत्र में काम करने वाले हर किसी का उनकी जो जानकारी उसे आप  #JanShakti4JalShakti पर शेयक करें ताकि उनका डाटा तैयार हो सके। 

PM Modi expressed concern about the water crisis in the first mind of his second term

स्वच्छता की तरह जल संरक्षण के लिए जन आंदोलन की करें शुरुआत

पीएम मोदी ने देशवासियों से कहा मेरा आपसे पहला अनुरोध है कि जैसे स्वच्छता को एक जन आंदोलन का रूप दिया था,उसी तरह जल संरक्षण के लिए एक जन आंदोलन की शुरुआत करें। देशवासियों से मेरा दूसरा अनुरोध है कि हमारे देश में जल के संरक्षण के लिए पारंपरिक तौर-तरीके सदियों से उपयोग में लाए जा रहे हैं। मैं आप सभी से,जल संरक्षण के उन पारंपरिक तरीकों को शेयर करने का आग्रह करता हूं। पीएम ने कहा कि जल की महत्ता को सर्वोपरि रखते हुए देश में नया जल शक्ति मंत्रालय बनाया गया है। इससे पानी से संबंधित ​सभी विषयों पर तेजी से फैसले लिए जा सकेंगे।

जल समस्या भविष्य के लिए बड़ी चुनौती है

पीएम ने कहा कि मुझे इस बात की खुशी है कि हमारे देश के लोग उन मुद्दों के बारे में सोच रहे हैं,जो न केवल वर्तमान बल्कि भविष्य के लिए भी बड़ी चुनौती है। पीएम ने कहा कि जल संकट भविष्य के लिए बड़ी चुनौती साबित होगी। पीएम ने कहा कहा जो भी पोरबंदर के किर्ति मंदिर जायें वो उस पानी के टांके का जरूर देखें। 200 साल पुराने उस टांके में आज भी पानी है और बरसात के पानी को रोकने की व्यवस्था है।,ऐसे कई प्रकार हर जगह पर होंगे।

स्वागत में फूलों की जगह दें किताबें

पीएम मोदी ने हमेशा आग्रह किया है कि हम स्वागत में फूलों की बजाय किताबें दें। पीएम ने कहा कि देश ने उनके इस आग्रह पर काफी जगहों पर लोग अब उन्हें किताबें देने लगे हैं। इसके साथ ही पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव पर चर्चा की। पीएम ने कहा कि इस चुनाव में महिलाओं और पुरुषों का मतदान प्रतिशत बराबर था। इसी से जुड़ा एक तथ्य यह है कि आज संसद में रिकॉर्ड 78 महिला सांसद हैं। मैं चुनाव आयोग को, चुनाव प्रक्रिया से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति को बहुत-बहुत बधाई देता हूं व भारत के जागरुक मतदाताओं को नमन करता हूं।

भारत में है दुनिया का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र

दुनिया का सबसे ज्यादा ऊंचाई पर स्थित मतदान केंद्र भारत में है। यह मतदान केंद्र हिमाचल प्रदेश के लाहौल -स्पीति क्षेत्र में 15000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। इसके साथ ही पीएम ने मन की बात में जिक्र किया कि अरुणाचल प्रदेश के रिमोट इलाके में ,महज एक महिला मतदाता के लिए पोलिंग स्टेशन बनाया गया था। पीएम ने बताया ​कि पूरे देश में करीब 10 लाख पोलिंग स्टेशन,40 लाख से ज्यादा ईवीएम मशीन,17 लाख से ज्यादा वीवीपैट मशीनों का इंतजाम किया गया ताकि यह पता लगाया जा सके कि कोई मतदाता अपने मताधिकार से वंचित ना हो। पीएम ने कहा ​कि शांतिपूर्वक इस लोकतंत्र के महायज्ञ संपन्न कराने के लिए जहां अद्धसैनिक बलों के करीब 3 लाख सुरक्षाकर्मियों ने अपना दायित्व निभाया,वहीं अलग-अलग राज्यों के 20 लाख पुलिस​कर्मियों ने भी,परिश्रम की पराकाष्ठा की,कड़ी मेहनत फलस्वरूप इस बार पिछली बार से अधिक मतदान हुआ है।

दुनिया के इतिहास में सबसे बड़ा लोकतंत्र का चुनाव था

पीएम मोदी ने कहा ​कि 2019 का लोकसभा का चुनाव अब तक इतिहास में दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक चुनाव था। इस प्रका के चुनाव संपन्न कराने में बड़े स्तर पर संसाधनों और मानवशक्ति की आवश्यकता पड़ती है। लाखों शिक्षकों,अधिकारियों और कर्मचारियों की दिन-रात मेहनत से चुनाव संभव हो पाया। इसके साथ ही पीएम ने कहा, 'मेरे प्यारे देशवासियो, मुझे और एक बात के लिए भी आपका और दुनिया के लोगों का आभार व्यक्त करना है। 21 जून को फिर से एक बार योग दिवस में उमंग के साथ, एक-एक परिवार के तीन-तीन चार-चार पीढ़ियाँ, एक साथ आ करके योग दिवस को मनाया।
 

 

Web Title: PM Modi expressed concern about the water crisis in the first mind of his second term ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया