जर्जर भवन और गर्मी में तप रहे छात्र, बेखबर अधिकारी


LEKHRAM MAURYA 19/07/2019 12:55:42
58 Views

LUCKNOW. विकास खण्ड के पूर्व माध्यमिक​​​ विद्यालय पतौना की जर्जर इमारत के लिए तीन साल से पत्राचार करने के बावजूद आज तक इमारत नहीं बन पाई, उल्टे अध्यापिका को नोटिस  जारी कर बच्चों को स्कूल में न बिठा कर अतिरिक्त कक्ष में बैठाकर पढ़ाने के लिए कहा गया। लेकिन इस विद्यालय में एक भी अतिरिक्त कक्ष नहीं है। इसके अलावा पंचायत भवन में एक कमरा है, जिसमे 80-90 छात्रों को नहीं बैठाया जा सकता।

19-07-2019180642JargarBhawan1

इंचार्ज अध्यापिका शिखा सिंह ने कहा कि वह इस विद्यालय को एक आदर्श विद्यालय बनाना चाहती हैं। उन्होने विद्यालय को साफ सुथरा रखने का हर सम्भव प्रयास किया है। विद्यालय में पेड़ लगाने का सिलसिला जारी है। इस बार भी कुछ पेड़ लगवा चुकी हैं। विद्यालय में चार कमरे एक प्रधानाध्यापक कक्ष है। इसमें से दो कमरों की स्थिति कुछ ठीक है जिसमें बच्चों को बैठाया जा रहा है, लेकिन तीसरे कमरे का प्लास्टर गिर ​रहा है एक दिन एक छात्रा के सिर पर प्लास्टर गिर चुका है। जिससे उस कक्षा के छात्रों को बरामदे में बैठाया जा रहा है।

इसके अलावा उन्होने कहा कि पिछले साल 85 छात्रों के हिसाब से आधे छात्रों का आधा पैसा पहली किस्त के रूप में दिया गया था। शेष धनराशि के लिए कहा ​गया कि आप ड्रेस बंटवा दें, पैसे का भुगतान हो जाएगा। लेकिन आज तक भुगतान नहीं हुआ। इसलिए इस बार जब तक पिछला पैसा नहीं मिलेगा तब तक नई ड्रेस नहीं खरीदूंगी।

डिमांड के बावजूद एक साल से नहीं मिल रहा विद्युत कनेक्शन

इस विद्यालय के परिसर में बिजली का पोल लगा है, लेकिन साल भर में कई बार प्रार्थना पत्र देने के बावजूद आज तक वि​द्युत कनेक्शन नहीं दिया गया। अध्यापिका ने कहा कि उन्होंंने बिजली कनेक्शन होने की आस में विद्यालय में वायरिंग करा दी, कनेक्शन न मिलने पर पंखे उतरवा लिए वर्ना चोरी हो सकते थे, क्योंकि  क्षेत्र के तीन दर्जन से अधिक विद्यालयों में चोरियां हो चुकी हैं। बिजली न होने के कारण छात्रों और अध्यापकों को गर्मी में कमरों में बैठना  मुश्किल होता है।

Web Title: Jargar Bhawan and the student who is reciting in the heat, the unreasonable officer ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया