पहले निर्माण, अब चारे के नाम पर गोशालाओं में प्रधान कर रहे फर्जीवाड़ा


LEKHRAM MAURYA 21/07/2019 13:02:38
152 Views

LUCKNOW. प्रधानों द्वारा ग्राम पंचायतों में बनाई गई गोशालाओं में पशुओं की अधिक संख्या दिखाकर कितना फर्जीवाड़ा किया जा रहा है। इसका उदाहरण विकास खण्ड माल की ग्राम पंचायत मड़वाना और बदैयां हैं।

21-07-2019131303Firstbuild,n1

मड़वाना की प्रधान सुशीला सिंह के पति राकेश सिंंह ने बताया कि उनके गांव के गोशाला में 114 पशु हैं, जबकि शनिवार को उसमें मात्र 65 पशु थे। वहीं दूसरी ओर पशु पालन विभाग के स्थानीय कर्मचारी ने बताया कि तीन दिन पहले मड़वाना की गोशाला में 80 पशु थे। वहां मौजूद धीरज अैर भोला ने बताया कि इसमें एक गाय प्रधान की भी है जो अब दूध नहीं देती है। इसके अलावा वहां गौशाला की रखवाली के लिए मौजूद बच्चों नेे बताया कि इसमें गांव वालों की भी 10-12 गाय हैं, जो दूध देने के बाद यहां छोड़ गए हैं।

21-07-2019131346Firstbuild,n2

मौके पर भूसा नहीं होने के सम्‍बन्ध में पूछने पर धीरज और भोला नाम के नाबालिग बच्चों ने बताया कि वह प्रधान के घर से ठेलिया में भरकर लाते हैं। खाने के समय ले आते हैं। हरा चारा बोया गया था जो अब नहीं है। अब जानवरों को सूूखा भूसा दिया जा रहा है। वह भी आवश्यकता से कम। इसी प्रकार बदैंया में भी जानवरों को भूखों मारा जा रहा है। वहां भी जानवरों को चारे के नाम पर तीसरे चौथे दिन थोड़ा भूसा डाल दिया जाता है और जानवरों की संख्या भी अधिक दिखाई जाती है। 

Web Title: First build, now the fodder filling in the Goshalas in the name of the fodder ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया