मुख्य समाचार
बिग बॉस 13 का पहला टीजर रिलीज, दर्शक कभी नहीं भूल पाएंगे ये सीजन आश्रम में दो महिलाओं से रेप का मामला, पुलिस जांच में जुटी ICSI CS परीक्षा का परिणाम घोषित, जानें कब तक होगा एक्टिव निवेशकों का करोड़ों लेकर रियल एस्टेट कंपनी फरार भाजपा को रोकने के लिए अखिलेश यादव अब इस पार्टी से करने जा रहे गठबंधन, सियासी सरगर्मी बढ़ी यहां नौकरी का सुनहरा मौका, जल्द करें आवेदन विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप: इतिहास रचने से एक कदम दूर पीवी सिंधु... यूपी: सूबे में जल्द हो सकता है एक नए गठबंधन का ऐलान, इन दलों के नेताओं की बढ़ी नजदीकियां राहुल के कश्मीर दौरे पर भड़के इकबाल अंसारी, दे डाली ये नसीहत आम आदमी की थाली से ये सब्जियां हुईं गायब, आगे भी राहत की उम्मीद नहीं
 

समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह


NAZO ALI SHEIKH 23/07/2019 10:48:58
102 Views

New Delhi. मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा के एक गांव की दो युवतियों ने संयुक्त मजिस्ट्रेट की अदालत में एक-दूसरे से शादी के लिए आवदेन किया था, लेकिन संयुक्त मजिस्ट्रेट ने आवेदन लेने से इंकार कर दिया तो चलिए जानते हैं आवेदन न लेने की वजह -

23-07-2019105552Twoyoungwome1

दरअसल, ठाकुरद्वारा गांव की युवती फेसबुक के जरि‍ए पैगा चौकी क्षेत्र निवासी एक युवती के संपर्क में आई। पिछले दो साल से दोनों में समलैंगिक संबंध हैं। इसी बीच काशीपुर क्षेत्र निवासी युवती के परिजनों ने उसकी शादी तय कर दी। उसका रिश्ता लगभग तय हो चुका था। उसने यह बात अपनी समलैंगिक सहेली को बताई। 

पिछले दिनों समलैंगिकों के संबंधों को वैध करार देने के उच्चतम न्यायालय के आदेश के चलते दोनों युवतियों ने शादी करने का फैसला कर लिया। उन्होंने महिला अधिवक्ता हेमा जोशी से संपर्क किया। हेमा ने युवतियों को आवेदन के लिए काशीपुर बुला लिया। 

दोनों काशीपुर में एक परिचि‍त के घर पर ठहरी थीं। अधिवक्ता ने शादी पंजीकरण कराने से संबंधित कार्यवाही के लिए संयुक्त मजिस्ट्रेट हिमांशु खुराना से संपर्क किया तो संयुक्त मजिस्ट्रेट ने कहा कि विशेष विवाह अधिनियम में समलैंगिकों के विवाह के लिए कोई प्रावधान नहीं है। 

इस संबन्ध में अभी कोई कानून पारित नहींं हुआ है। उन्होंने बताया कि दोनों युवतियां बालिग हैं। वे अपनी मर्जी से साथ रहने को आजाद हैं। यदि वे सुरक्षा की मांग करतीं हैं तो उन्हें नियमानुसार सुरक्षा दी जा सकती है। इसके बाद दोनों युवतियों की वकील ने उन्हें वापस लौटा दिया। 

23-07-2019105610Twoyoungwome2

संयुक्त मजिस्ट्रेट हिमांशु खुराना ने कहा कि एक महिला अधिवक्ता दो युवतियों का आपस में विवाह पंजीकृत कराने के बारे में जानकारी लेने आईं थीं। उन्हें विशेष विवाह अधिनियम में ऐसा कानून न होने के बारे में बता दिया गया है। वयस्क होने के चलते युवतियां चाहें तो साथ रह सकती हैं। 

Web Title: Two young women the reason for the gay marriage, the magistrate did not take the application ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया