मुख्य समाचार
बिग बॉस 13 का पहला टीजर रिलीज, दर्शक कभी नहीं भूल पाएंगे ये सीजन आश्रम में दो महिलाओं से रेप का मामला, पुलिस जांच में जुटी ICSI CS परीक्षा का परिणाम घोषित, जानें कब तक होगा एक्टिव निवेशकों का करोड़ों लेकर रियल एस्टेट कंपनी फरार भाजपा को रोकने के लिए अखिलेश यादव अब इस पार्टी से करने जा रहे गठबंधन, सियासी सरगर्मी बढ़ी यहां नौकरी का सुनहरा मौका, जल्द करें आवेदन विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप: इतिहास रचने से एक कदम दूर पीवी सिंधु... यूपी: सूबे में जल्द हो सकता है एक नए गठबंधन का ऐलान, इन दलों के नेताओं की बढ़ी नजदीकियां राहुल के कश्मीर दौरे पर भड़के इकबाल अंसारी, दे डाली ये नसीहत आम आदमी की थाली से ये सब्जियां हुईं गायब, आगे भी राहत की उम्मीद नहीं
 

रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला


NAZO ALI SHEIKH 23/07/2019 12:16:50
304 Views

Mumbai. मुंबई हाईकोर्ट से देश के मशहूर बिजनेसमैन रतन टाटा को मानहानि मामले में राहत मिल गई है। स्थानीय अदालत में टाटा सन्स के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा, मौजूदा चेयरमैन एन चंद्रशेखरन और कंपनी के आठ निदेशकों के खिलाफ मानहानि का मुकदमा रद्द कर दिया। टाटा रतन पर मानहानि का मामला नुस्ली वाडिया ने दायर किया था।

23-07-2019121820RatanTataget1

टाटा के खिलाफ दायर आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज होने के बाद शहर की मजिस्ट्रेट अदालत ने रतन टाटा व अन्य को नोटिस भेजा था। निदेशक समूह से बाहर किए जाने के बाद समूह की कंपनियों ने 2016 में मुकदमा दायर किया था। वहीं, दूसरी ओर टाटा रतन समेत अन्य ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कार्रवाई को खारिज करने का अनुरोध किया था। 

यह भी पढ़ें... सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति

रतन टाटा के एडवोकेट ने कोर्ट में पक्ष रखते हुए कहा कि कंपनी विवाद की वजह से मामला दर्ज कराया गया। बिना सोचे समझे यह किया गया। यह मामला कुछ और नहीं बल्कि रतन टाटा और नुस्ली वाडिया के बीच एक कार्पोरेट विवाद का परिणाम है। वाडिया साइरस मिस्त्री के बड़े समर्थक हैं।'

वहीं, वाडिया ने मुकदमा दर्ज कराते हुए यह दावा ठोंका था कि साइरस मिस्त्री को गत 24 अक्टूबर 2016 को टाटा संस के चेयरमैन पद से हटा दिया गया था। इसके बाद टाटा व अन्य ने उनके सम्मान को ठेस पहुंचाने वाला विवादित तरह का बयान भी जारी किया। 

23-07-2019121831RatanTataget2

वाडिया की बात करें तो वह टाटा समूह की इंडियन होटल्स कंपनी, टीसीएस, टाटा मोटर्स और टाटा स्टील सहित कई कंपनियों के स्वतंत्र निदेशक पद पर कार्यरत थे। दिसंबर 2016 और फरवरी 2017 के बीच एक अहम बैठक बुलाने के बाद उनको स्वतंत्र निदेशक पद से हटाने के पक्ष में शेयरधारकों ने मतदान किया। लेकिन वाडिया इससे संतुष्ट नहीं हुए और मानहानि का मुकदमा दायर कर दिया।

Web Title: Ratan Tata gets relief from defamation suit in High Court ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया