ओडिशा की कोयला खदान में भूस्खलन, चार की मौत की आशंका


DEEP KRISHAN SHUKLA 24/07/2019 13:22:50
139 Views

New Delhi. ओडिशा में कोयला खदान में भूस्खलन होने से हड़कंप मच गया। इस हादसे में चार लोगों के मारे जाने की आशंका जाहिर की जा रही है जबकि 9 लोगों के घायल होने की खबर आ रही है। कोल इंडिया लिमिटेड माइन कंपनी के प्रवक्ता ने बुधवार इसकी जानकारी दी। 

24-07-2019132926landslideinc1
कोल इंडिया की सहायक कंपनी महानदी कोलफील्ड लिमिटेड के प्रवक्ता डिक्केन मेहरा ने बताया कि खदान में भूस्खलन होने से बड़ा हादसा हो गया।

इस घटना में चार श्रमिकों के मारे जाने की आशंका उन्होंने जाहिर की है जबकि 9 श्रमिक इस हादसे में घायल हुए है।

उन्होंने बताया कि मंगलवार हुए इस हादसे के बाद खदान को बंद कर दिया गया है। मलवे में दबे श्रमिकों की तलाश की जा रही है।

जिस खदान में यह हादसा हुआ है वहां प्रतिदिन 20 हजार टन कोयले की उत्पादन क्षमता है। दोबारा यहां काम शुरू होने में तकरीबन एक सप्ताह का समय लगने की बात उन्होंने कही है। 

24-07-2019132945landslideinc2
गौरतलब हो कि यह कोई पहला हादसा नहीं है जब मजदूरों की जान खतरे में पड़ी हो इससे पहले भी कई हादसे हो चुके हैं। 
सुरक्षा के मापदंडों की अनदेखी अक्सर खदानों में हादसों की शक्ल अख्तयार कर लेती है। देश में तमाम ऐसी भी अवैध खदाने है जो दूरदराज के पहाड़ी इलाकों में गुप​चुप तरीके से चल रही हैं।

जिनमें होने वाले हादसों का तो पता भी नहीं चल पाता। ओडिशा की तरह ही पिछले साल दिसंबर में मेघायल की भी एक गैरकानूनी रैट होल खदान में 15 मजदूर फंस गए थे।
भारत को कोयला खनिकों के लिए खतरनाक देश माना जाता है। भारत में खदानों की स्थिति अच्छी नहीं है।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक कोल इंडिया और सिंगरानी कोलियरीज कंपनी लिमिटेड द्वारा संचालित खदानों में 2018 में औसतन हर सात दिन में एक खनिक की मौत हुई है। यह सिलसिला अभी भी जारी है। 


यह भी पढ़ें...माननीयों की सुरक्षा पर चली गृह मंत्रालय की कैंची, कुछ की हटी तो कुछ की घटी

 

 

 

Web Title: landslide in coal mine of Odisha, Four deaths fears ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया