स्कूलों में अनुपस्थित रहना पड़ेगा महंगा, चेहरे से लगेगी अटेंडेंस


NAZO ALI SHEIKH 22/08/2019 12:05:32
64 Views

New Delhi. स्कूलों में अनुपस्थित रहना अब शिक्षकों को महंगा साबित होगा। अनुपस्थित रहने वाले शिक्षक बहाना बनाकर अब किसी भी सूरत में बच नहीं पाएंगे। चूंकि स्कूलों में अब फेशियल रिकॉग्निशन अटेंडेंस सिस्टम पांच सितंबर से लागू होने जा रहा है। शिक्षक दिवस पर ही इसे लांच करने की तैयारी भी पूरी कर ली गई है। 

बताते चलें कि यह नई व्यवस्था लागू होने के बाद मशीन चेहरा पहचानने के बाद ही अटेंडेंस लगाएगी। इससे किसी भी तरीके का कोई फर्जीवाड़ा नहीं चल पाएगा। यह व्यवस्था गुजरात के सरकारी स्कूलों में लागू होगी। सीएम विजय रुपाणी शिक्षक दिवस पर इसे लांच करेंगे। 

सरकार का कहना है कि इस व्यवस्था के लागू होने पर राज्य के लगभग 2.5 लाख शिक्षकों पर नजर रखा जाा सकेगा। बता दें कि ऑनलाइन अटेंडेंस सिस्टम एक एप्लीकेशन की सहायता से काम करेगा। इस सिस्टम में जियो टैगिंग का प्रयोग होता है। बता दें कि गुजरात शिक्षा के प्रधान सचिव विनोद राव ने 10 मिनट का एक वीडियो और ऑडियो मैसेज रिकॉर्ड किया है। इस व्यवस्था की जानकारी के लिए स्कूलों में शिक्षकों के वॉट्सएप ग्रुप पर भेजा जा रहा है। प्रधान सचिव ने यह भी कहा कि शिक्षकों के साथ किसी भी तरह का अन्याय नहीं किया जाएगा। यदि शिक्षक उपस्थित हैं, इसके बाद भी प्रचार्य अनुपस्थित नहीं कर पाएंगे।

शिक्षक संघ ने इस व्यवस्था का विरोध जताया है। शिक्षकों का कहना है कि यह उनकी निजता का हनन करने के समान है। यही नहीं नई व्यवस्था को लेकर सरकार के पास ढांचागत और आर्थिक संसाधनों की कमी के विषय पर भी सवाल खड़ा किया है। संघ ने कहा है कि सचिव ने इस संबंध में उनसे कोई बात नहीं की है। प्रधान सचिव तक यह बात पहुंचा दी गई है कि कोई शिक्षक एप डाउनलोड नहीं करेगा। वहीं, सचिव का कहना है कि कोई भी व्यवस्था लागू होने पर विरोध तो होता ही है। किसी शिक्षक को दिक्कत है, तो वह उनसे मिल सकता है। 

22-08-2019132756Beingabsenti1

Web Title: Being absent in schools will be costly, face will be attended ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया