सीएम योगी ने अपने गुरू का सपना किया साकार, खोली गयी 24 साल से प्रतिबंधित केशव वाटिका


DEEP KRISHAN SHUKLA 25/08/2019 10:58 AM
168 Views

Mathura. सूबे की योगी सरकार ने 24 साल बाद श्री कृष्ण जन्मस्थान की 'केशव वाटिका' को आम जनता के लिए खोल दिया है। इस वाटिका को केंद्र की कांग्रेस और सूबे की माया सरकार में प्रतिबंधित किया गया था। जन्माष्टमी के मौके पर इस वाटिका को भव्य रूप से सजाया गया। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यहां बड़ी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती की गयी है। 

CM Yogi fulfills dream of his guru, opened Keshav Vatika banned for 24 years
मालूम हो कि यह वाटिका श्री कृष्ण जन्मस्थान के निकट 3.5 एकड़ भूमि में बनी है।

इस वाटिका को प्रशासन से मुक्त कराने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गुरु महंत अवैद्यनाथ सहित विश्व हिंदू परिषद के नेताओं ने 84 कोस की यात्रा की थी। 
1995 में इस वाटिका को प्रशासन ने बैरीकेटिंग लगा कर बंद कर दिया था। 1999 में योगी आदित्यनाथ के गुरू स्वर्गीय महंत अवैधनाथ ने इस वाटिका को प्रशासन से मुक्त कराने के लिए विश्राम घाट पर संकल्प लिया था। 
उनके साथ विश्व हिंदू परिषद के कई दिग्गज नेताओं ने 84 कोस की यात्रा शुरू की थी। 

CM Yogi fulfills dream of his guru, opened Keshav Vatika banned for 24 years
वर्ष 1995 में इस 'केशव वाटिका' को आम जनता के लिए प्रतिबंधित किया गया था। 
उस दौरान विश्व हिंदू परिषद ने यहां बिड़ला मंदिर के निकट विष्णु महायज्ञ का आयोजन किया था।

इस यज्ञ पूर्व सुरक्षा का जायजा लेने के लिए तत्काली केंद्रीय मंत्री राजेश पायलट वहां पहुंचे थे। 
यज्ञ के दौरान भीड़ एकत्र होने के कारण अप्रिय घटना की आशंका में इस वाटिका को बैरीकटिंग लगा कर प्रतिबंधित कर दिया गया था। 
बता दें कि यह प्रतिबंध जिस समय लगा था उस दौरान केंद्र की सत्ता में कांग्रेस और प्रदेश की सत्ता में बसपा का शासन था। 

यह भी पढ़ें...छात्रसंघ से वित्तमंत्री तक कुछ ऐसा रहा अरुण जेटली का राजनीतिक सफ़र

 

 

 

Web Title: CM Yogi fulfills dream of his guru, opened Keshav Vatika banned for 24 years ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया