पीओके को भारत में विलय करने के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने दिया बड़ा बयान


RAGHVENDRA CHAURASIA 25/08/2019 12:34 PM
79 Views

New Delhi . भारतीय ​जनता पार्टी के दिग्गज नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने पीओके को भारत में विलय करने के लिए बड़ा बयान दिया है। स्वामी ने मोदी सरकार से अपील कि वे पूर्व पीएम जवाहर लाल नेहरू द्वारा साल 1947 में यूनाइटेड नेशंस ​सिक्योरिटी काउंसिल (यूएनएससी) में जो याचिका डाली थी,उसे सरकार को वापस लेना चाहिए। यह याचिका वापस लेते ही एलओसी की सारी समस्याए समाप्त हो जाएंगी। इसके बाद भारतीय सेना एलओसी पार करके मुजफ्फराबाद तक पहुंच जाएगी और हमारा कब्जा पीओके पर आसानी से हो जाएगा। 

Subramanian Swamy made a big statement to merge PoK in India

चंडीगढ़ में पीओके पर आयोजित कार्यक्रम में दिया यह बयान

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ के सांस्कृतिक गौरव संस्थान के तत्वाधान में सेक्टर 10 के डीएवी कॉलेज के सभागार में वेकेशन ऑफ पीओके पर आयोजित कार्यक्रम में सुब्रमण्यम स्वामी ने यह बयान दिया। स्वामी ने कहा कि यदि पाकिस्तान अब नहीं सुधरा तो भविष्य में उसके चार टुकड़े होंगे। इसी दौरान राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सरकार से कहा कि यूएन से याचिका वापस लेने की दिशा में काम करना चाहिए।

सरकार ने खुद कश्मीर से अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी किया है

राज्यसभा सांसद स्वामी ने कहा कि खुद मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी करके पीओके को भारत में शामिल करने का रास्ता खोल दिया है। उन्होंने चंडीगढ सांसद किरण खेर से भी निवेदन किया कि वह मोदी को यूएन से याचिका वापस लेने के लिए कहें। सांसद ने कहा कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान तो मोहरा हैं,देश तो कोई और ही चला रहा है। 

स्वामी ने कहा मेरा गोत्र कश्यप है

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि मेरा गोत्र कश्यप है और कश्मीर को हमारे ही कश्यप लोगों ने बसाया था। उन्होंने कहा कि इसलिए हमारा कश्मीर से पुराना नाता है। कश्मीर में अनुच्छेद 370 को पहले ही खत्म कर देना चाहिए था लेेकिन ऐसा नहीं हो सका।


 

 

Web Title: Subramanian Swamy made a big statement to merge PoK in India ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया