मलिहाबाद की महिला किसान को मिला अकादमी अभिनव किसान पुरस्कार


LEKHRAM MAURYA 07/09/2019 10:58:40
32 Views

LUCKNOW. आंधी और तेज हवा से गिरे आम के कच्चे फल को पारंपरिक रूप से महिलाएं खटाई बनाकर धन उपार्जन करती हैं, परंतु खटाई के लिए उन्नत तकनीकी का प्रयोग न करने के कारण वह काली पड़ जाती है। फलस्वरुप यह बिचौलियों द्वारा औने पौने दाम में खरीद ली जाती है।

 Female farmer from Malihabad received Academy Innovation Farmer Award

महिला किसानों को मूल्य संवर्धन द्वारा ज्यादा आय दिलाने एवं बिचोलियों से बचने के लिए फार्मर फ़र्स्ट परियोजना के अंतर्गत संस्थान के वैज्ञानिकों ने 30 महिलाओं का समूह बनाकर मोहम्मद नगर तालुकेदारी गांंव में कच्चे आम के प्रसंस्करण पर प्रशिक्षित किया। जिसमें महिलायों को आंंधी के कारण गिरे हुए आम के कच्चे फलों से आमचूर बनाने की उन्नत तकनीकी प्रदर्शित की।

इसके अलावा महिलाओं को आमचूर बनाने की विधि में उपयोग आने वाले उपकरण जैसे मैंगों पीलर तथा सोलर डीहाइड्रेटर उपलब्ध कराया, जिससे प्रेरित होकर महिला किसान नवीन विधि से अमचूर बनाने लगी तथा इसको शहरी क्षेत्रों में अच्छे दाम पर बेच रही हैं । इसी क्रम में मोहम्मद नगर तालुकेदारी गाँव की महिला किसान स्वेता मौर्या को हैदराबाद स्थित आईसीएआर-राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंधन अकादमी द्वारा अभिनव किसान पुरस्कार के लिए चुना गया।

यह पुरस्कार आईसीएआर के महानिदेशक डाॅ त्रिलोचन महापात्र के कर कमलों द्वारा दिया गया। इस पुरस्कार के लिए देश भर से केवल आठ किसानों का चयन किया गया, जिसमें से एक स्वेता मौर्या को मिला है। स्वेता मौर्या अमचूर के अलावा आम पना एवं विभिन्न प्रकार के आचार भी बनाती हैं ।

हैदराबाद और मध्य प्रदेश से मिल रहे आर्डर

24 वर्षीया श्वेता मौर्या इससे बेहद उत्साहित है और  कहती है की आमचूर, आम पन्ना, अचार एवं अमावट के लिए लोग उनसे संपर्क कर रहे है उन्हें हैदराबाद एवं मध्यप्रदेश से आर्डर मिले हैं। आने वाले वर्षो में वह एक सफल उद्यमी बनना चाहती हैं। वह कहती हैं कि केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान के वैज्ञानिक डॉ. पवन गुर्जर के द्वारा दिए गए प्रशिक्षण और निदेशक के सहयोग से वह यह कार्य सफलता पूर्वक कर पायी। 

परियोजना के अन्वेषक डॉ मनीष मिश्रा बताते है कि जिन महिलाओं को इस तकनीक से जोड़ा गया, उन्हें पारम्परिक विधि से कार्य करने वाली महिलाओं की तुलना में 30 प्रतिशत अधिक आय प्राप्त हुई। 

मूल्य संवर्धन के अतिरिक्त संस्थान बहुत सी  बागवानी संबंधित प्रौद्योगिकी में उद्यमिता विकास के लिए किसानों को सहयोग कर रहा है। इस दिशा में बहुत से युवक,  महिलाएं एवं विद्यार्थी इन तकनीकों का लाभ उठाने हेतु संस्थान से परामर्श ले रहे हैं| कई उद्यमियों ने अपना व्यवसाय स्थापित करने में अभूतपूर्व सफलता भी प्राप्त की है।

Web Title: Female farmer from Malihabad received Academy Innovation Farmer Award ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया