माता प्रसाद पाण्डेय को सरकारी आवास खाली करने का मिला नोटिस


ABHIMANYU VERMA 18/09/2019 08:51 AM
437 Views

Siddharthnagar. यूपी के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और सपा नेता माता प्रसाद पाण्डेय की मुश्किल में पड़ते दिखायी दे रहे हैं। जिला पंचायत ने उन्हें नोटिस जारी करके 7 दिनों के अंदर सरकारी आवास खाली करने को कहा है। वहीं, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष ने योगी सरकार में मंत्री सतीश दि्ववेदी पर आवास करवाने का आरोप लगाया है। 

Mata Prasad Pandey gets notice to vacate government house

बता दें कि साल 1978 में जनता पार्टी की सरकार की ओर से माता प्रसाद पाण्डेय को ये सरकारी आवास आवंटित किया गया था। जोकि 50 रुपया महीने पर 99 साल का पट्टा किया गया था। बताया जा रहा है कि जिला पंचायत ने सरकार के शासनादेश के आधार पर माता प्रसाद को नोटिस भेजा है, जिसमें उन्हें 7 दिनों में आवास खाली करने को कहा गया है। 

यह भी पढ़ें:-...आज़म के समर्थन पर भड़कीं जया प्रदा, मुलायम-अखिलेश पर जमकर साधा निशाना

वहीं, नोटिस भेजे जाने के बाद माता प्रसाद पाण्डेय ने प्रेस कांफ्रेंस कर योगी सरकार को जमकर कोसा। उन्होंने कहा कि ये सरकार उनके साथ-साथ जिले में सपा कार्यकर्ताओं और आम जनता को भी परेशान कर रही है। उन्होंने कहा कि शासन की ओर से आवंटित किए सरकारी आवास जो 50 रुपया महीने के हिसाब से 99वर्षों तक पट्टा किया गया था, उसे राजनीतिक दबाव में रद्द कर सीधे खाली करने का नोटिस दे दिया गया है। 

Mata Prasad Pandey gets notice to vacate government house

सपा नेता ने आरोप लगाया कि जिला प्रशासन स्थानीय विधायक व प्रदेश सरकार के मंत्री के इशारे पर काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि जब बस्ती जिला था, तब 1978 में ये पट्टा जिला पंचायत ने आवंटित किया था। जिसकी जो राशि थी हर महीने वह जमा करते रहे थे। 

उन्होंने कहा जब वह चुनाव हारे तो एक पंचायत की समिति बना दी गयी और क्षेत्रीय विधायक उसके सदस्य बन गए। जब विधायक मंत्री बने तो उनके दबाव में ये पट्टा निरस्त कराया गया और उन्हें नोटिस दिया गया है। 

Web Title: Mata Prasad Pandey gets notice to vacate government house ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया