मायावती का ये करीबी निकला विभीषण, विधायकों के पार्टी छोड़ने का खुला राज...


NAZO ALI SHEIKH 19/09/2019 10:07:45
1508 Views

Lucknow. कांशीराम के बाद बहुजन समाज पार्टी की बागडोर संभालने वाली बसपा सुप्रीमों लगातार साजिश का शिकार होती रही हैं। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है यह पिछले 16 सालों से होता आ रहा है। जब भी लगता है की बसपा पार्टी अब मजबूती से खड़ी है तभी मायावती को धोका देकर पार्टी का कोई न कोई नेता उनका साथ छोड़ जाता है या कभी पार्टी से निष्कासित कर दिया जाता है। 

19-09-2019101001Thiscloserel1

  डेढ़ महीने पहले लिखी गई थी पटकथा

राजस्थान में 6 बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने का ऐलान तो अभी हुआ है लेकिन यह कहानी तो डेढ़ महीने पहले ही लिख दी गई थी। जिसमें मायावती के करीबी नेता नदबई विधानसभा सीट के बसपा सांसद जोगिंदर अवाना ने विभीषण का काम किया है। 

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इसमें खास भूमिका निभा। एक मीडिया चैनल में छपी खबर के अनुसार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के घर पर एक अगस्त को रात्रिभोज के समय इस षडयंत्र की शुरुआत हुई थी और 7 सितंबर को डिप्डी सीएम सचिन पायलट की मंजूरी के बाद इस पर आखिरी मुहर लगाई गई। इसके बाद सभी 6 बसपा विधायकों ने कांग्रेस के खेमें में शामिल होने का फैसला कर लिया। 

   बसपा को नहीं लगी भनक

मुख्यमंत्र अशोक  गहलोत के अपने घर में सभी बसपा विधायकों को रात्रिभोज दिया गया, जिसमें बसपा विधायक जोगिंदर अवाना भी सपरिवार शामिल हुए थे।  यहां से शुरु बातचीत का सिलसिला पार्टी छोड़ने पर जाकर रुका। अवाना धीरे-धीरे कांग्रेस खेमे के साथ नजर आने लगे, लेकिन बसपा को इसकी भनक तक नहीं लगने दी। वहीं 19 अगस्त को पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने जब राजस्थान से राज्यसभा सदस्य पद के लिए नामांकन भरा तो जोगिंदर अवाना उनके प्रस्तावक बने। 21 अगस्त को पूर्व पीएम राजीव गांधी की 75वीं जयंती पर जयपुर में हुए कार्यक्रम में भी जोगिंदर अवाना समर्थकों संग नजर आए। फिर 7 सितंबर को सपरिवार सचिन पायलट के घर उनको जन्मदिन की बधाई देने पहुंचे। इसी दिन बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर अंतिम मुहर लगी और 16 सितंबर को सभी बसपा विधायकों के कांग्रेसे में शामिल होने का ऐलान हो गया। 

  पार्टी छोड़ने की वजह

पार्टी छोड़ने के पीछे बसपा सांसदों ने यह वजह बताई है कि पार्टी हाईकमान की नीतियों के चलते बसपा विधायकों ने कांग्रेसी खेमें में जाने का मन बनाया लिया। निकाय चुनावों में चल रही लापरवाही से नाराज जोगिंदर अवाना ने कई बार बसपा सुप्रीमों से मिलने की कोशिश की, लेकि उनसे मिलने नहीं दिया गया। विधायक अवाना ने कहा कि बसपा में क्वार्डिनेटर हावी हो चुके हैं वह जनप्रतिनिधियों की भी आवाज पार्टी मुखिया तक नहीं जाने देते। 

Web Title: This close relation of Mayawati turned out to be Vibhishan, open secret of MLAs leaving the party ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया