बच्चों में छिपी प्रतिभाओं को पहचानने की जरूरत: बाबा योगेन्द्र


RAJNISH KUMAR 20/09/2019 23:30:44
57 Views

Lucknow. ललित कला अकादमी क्षेत्रीय केंद्र अलीगंज लखनऊ की ओर से आयोजित अष्टलक्ष्मी राष्ट्रीय पूर्वोत्तर चित्रकारी शिविर (19 से 25 सितंबर) का उद्घाटन मुख्य अतिथि संस्कार भारती के संस्थापक पद्मश्री बाबा योगेन्द्र जी ने दीप प्रज्जवलित कर किया गया। दौरान विशिष्ट अतिथि के रूप में मुकेश कुमार मेश्राम (आईएएस), मंडलायुक्त लखनऊ औऱ वरिष्ठ कलाकार सुमन मजूमदार भी मौजूद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ. उत्तम पाचारणे ने मुख्यअतिथि और विशिष्ट अतिथियों का पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया और साल ओढ़ाकर सम्मानित किया। अष्टलक्ष्मी कला में भाग लेने आए सभी 23 कलाकारों को मुख्यातिथि पद्मश्री बाबा योगेंद्र जी ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।

20-09-2019233254Needtorecogn1

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बाबा योगेंद्र ने कहा कि प्रत्येक बच्चे में कोई न कोई प्रतिभा छिपी होती है, जरूरत है उन प्रतिभाओं को पहचान कर आगे बढ़ाने की। उन्होंने कहा कि भारत की कला व सांस्कृतिक विरासत सदियों पुरानी है और मुझे ख़ुशी है कि अकादमी इस विरासत को सहेजने का भरसक प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी राष्ट्र की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहर एवं विचारों को आने वाली पीढ़ियों तक पहुंचाने का दायित्व कला का होता है और यह कहना कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी कि अपने आरम्भ से लेकर आज तक के लम्बे सफ़र में अकादमी ने अपनी इस ज़िम्मेदारी को पूरी निष्ठा से निभाने का प्रयत्न किया है और उसमें सफल भी रही है।

20-09-2019233303Needtorecogn2

राष्ट्रीय ललित कला अकादमी के अध्यक्ष डा. उत्तम पाचारणे ने कहा कि अकादमी की शुरुआत 1954 में हुई थी, लेकिन 2014 में नई सरकार के गठन के बाद ललित कला अकादमी को आगे बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोई भी कला तब तक फलीभूत नहीं होती, जब तक वह स्वयं को समाज के सापेक्ष नहीं बनाती और यह हार्दिक प्रसन्नता की बात है कि अकादमी में इस तरह के उपक्रम हो रहे हैं जो अपने आप को समय के सापेक्ष बना रहे हैं।

उन्होंने कहा कि साधना का मार्ग ईश्वर को पाने का मार्ग है। मीरा ने गाकर तो तुलसी ने लिख कर ईश्वर को प्राप्त किया और कलाकार कृतियां सृजित करके करता है। उन्होंने कहा कि आप मन कर चलिए कि इस मार्ग में सकारात्मकता होगी, परिश्रम होगा और जिज्ञासा होगी। उन्होंने कहा कि अकादमी का कला को लेकर जो उद्देश्य है, उसकी पूर्ति के लिए हम सबको साथ मिलकर चलना होगा। इसके अलावा मंडलायुक्त मुकेश कुमार मेश्राम औऱ वरिष्ठ कलाकार सुमन मजूमदार ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

20-09-2019233308Needtorecogn3

इस दौरान कार्यक्रम में न्यूज टाइम्स पोस्ट पत्रिका का विमोचन पद्मश्री बाबा योगेंद्र, डा. उत्तम पाचारणे, कलाकार सुमन मजूमदार, यूनाइट फाउण्डेशन के अध्यक्ष पीके त्रिपाठी, सनातन ज्ञान पीठ के संस्थाक योगेश मिश्र और न्यूज टाइम्स नेटवर्क के स्थानीय संपादक राधेश्याम दीक्षित ने किया। कार्यक्रम का संचालन यूनाइट फाउडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम दीक्षित ने किया।

20-09-2019233313Needtorecogn4

बता दें कि ललित कला अकादमी के शिविर में आठ राज्यों एवं भारत के विभिन्न हिस्सों से कुल 23 कलाकार आमंत्रित किए गए, जिससे पूर्वोत्तर के कलाकारों को लखनऊ की संस्कृति एवं विरासत को देखने और समझने का अवसर प्राप्त हो और साथ ही लखनऊ के कलाकारों को पूर्वोत्तर की संस्कृति की झलक मिलेगी। इस तरह का आयोजन लखनऊ में पहली बार हो रहा है। 

 

 

 

Web Title: Need to recognize hidden talent in children ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया