मंत्रीजी! एक नजर हादसे के इंतजार में खड़े जर्जर आवासों पर भी डालिये


LEKHRAM MAURYA 21/09/2019 15:42:17
35 Views

LUCKNOW. विकास खण्ड की स्थापना के साथ ही कर्मचारियों के लिये बने आवास जर्जर हो चुके हैं, लेकिन इन आवासों को गिराने और उनकी जगह नये आवास बनाने के लिए ग्राम विकास मंत्री क्या कार्रवाई करते हैं, यह बात यहां काम करने वाले हर उस कर्मचारी के दिल में है, जो इन जर्जर आवासों में अपना कार्यालय या आवास बनाकर रह रहा है। यहां का चौकीदार रामफल इन्ही जर्जर आवासों में रह रहा है।

21-09-2019161632Mr.Minister!1

रामफल ने कहा कि बीडीओ साहब हमारे लिए रहने की व्यवस्था नहीं कर रहे हैं, इसलिए यदि जर्जर आवास में रहने के कारण मेरे साथ कोई घटना हो जाती है तो उसके लिए कौन​ जिम्मेदार होगा। यही हाल बाल​ विकास पुष्टाहार कार्यालय बने जर्जर आवास का भी है। इसके अलावा कई गावों के सचिव भी इन्ही जर्जर आवासों में अपना कार्यालय बनाकर काम करते देखे जा सकते हैं।

किसी हादसे के ​इंतजार में माल विकास खण्ड के जर्जर आवास 

दूसरी ओर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई बार अधिकारियों को तैनाती स्थल पर निवास करने के लिए मुख्य सचिव की ओर से आदेश जारी करवा चुके हैं। ऐसे में जब अधिकारी सुबह शहर से कार्यालय पहुॅचते हैं तो कर्मचारियों की बात कौन करे। 

यही नहीं जब कभी किसी मंत्री या शासन के अधिकारी के निरीक्षण का फरमान जारी होता है तो अधिकारियों में खलभली मच जाती है। क्योंकि यहां तो हमेशा हर काम लेट लतीफी से चलता है। इस विकास खण्ड को अधिकारी सजा के तौर पर मानते हैं इसी का नतीजा है कि अधिकारी हमेशा यहां सही समय पर सही तरीके से काम नहीं करते हैं।

Web Title: Mr. Minister! Have a look at the dilapidated houses standing in wait for the accident. ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया