छात्रों को सिखाने में शिक्षक फेल हो गए हैं: हाईकोर्ट


NAZO ALI SHEIKH 22/09/2019 14:53:13
59 Views

New Delhi. दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग ने फेल होने पर छात्रों के एडमिशन पर रोक लगा दी थी, जिसे हाईकोर्ट ने गलत करार दिया है। दिल्ली हाईकोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि छात्र सीखने में नहीं शिक्षक सिखाने में फेल हो गए हैं। बता दें कि यह टिप्पणी सुनवाई करते हुए जस्टिस राजीव ने की। कोर्ट ने सुनवाई करते हुए शिक्षा विभाग के उस नियम पर भी रोक लगा दी जिसमें कक्षा 9वीं से 12वीं के बीच दो साल फेल होने पर छात्र को स्कूल में दोबारा एडमिशन नहीं देने का प्रावधान किया गया है।

22-09-2019145404Teachershave1

बताते चलें कि गत शुक्रवार को दो बच्चों के पिता ने कोर्ट में शिक्षा विभाग के फैसले को लेकर याचिका दायर की थी। बच्चे को उसके स्कूल ने 9वीं कक्षा में फेल होने के कारण दोबारा एडमिशन देने से साफ इंकार कर दिया था। सरकार का तर्क था कि बच्चे दो बार फेल हो चुके हैं। साथ ही यह भी कहा कि दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग ने नियम जारी किए हैं कि जो छात्र 9वीं से 12वीं कक्षा के बीच लगातार दो साल पास होने में असफल हों, उनको दोबारा एडमिशन नहीं दिया जा सकता।

यह भी पढ़ें... चुनाव का ऐलान होते ही मायावती का बड़ा एक्शन, इस दिग्गज नेता को किया बाहर

छात्र के पिता कबाड़ में काम करते हैं। उन्होंने अपने वकील वकील अशोक अग्रवाल के माध्यम से कोर्ट में दिल्ली सरकार के इस नियम को चुनौती दी। सरकार ने इस संबंध में अप्रैल 2014 और अगस्त 2018 में जारी सर्कुलर जारी की थी। वकील अशोक ने कोर्ट में कहा कि दिल्ली सरकार का ये सर्कुलर भारतीय संविधान के अनुच्छेद 14, 21 और 21ए में दिए गए मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करता है।

साथ ही कोर्ट को यह भी तर्क दिया कि सर्कुलर के आधार पर सरकारी स्कूलों ने सैकड़ों छात्रों को एडमिशन देने से इंकार कर दिया। यह पूरी तरह से गैरकानूनी है। हाईकोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि इस विषय पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है। मामले की अगली सुनवाई 16 दिसंबर को होगी। अगली सुनवाई तक जारी सर्कुलर पर रोक लगी रहेगी।

Web Title: Teachers have failed to teach students: High Court ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया