मानव जीवन में संस्कार ही संसार की अमूल्य निधि: स्वामी प्रपन्नाचार्य


RAJNISH KUMAR 23/09/2019 00:38:30
39 Views

Lucknow. खुशहाल स्वास्थ्य सेवा संस्थान, जीवन ज्योति हास्य योग लॉफिंग क्लब लखनऊ की ओर से रविवार को "मानव जीवन में संस्कारों का महत्व" विषय पर इंदिरा नगर के दयानन्द इंटर कालेज एक वैचारिक चेतना अभियान संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया। इस कार्यक्रम का शुभारम्भ पीठाधीश्वर स्वामी डॉ. सौमित्र प्रपन्नाचार्य जी महाराज, बलरामदास महाराज (महंत हनुमान गढ़ी), बृजमोहन दास जी महराज (महंत दशरथ गद्दी) प. केसरी प्रसाद शुक्ल (आध्यात्मिक विचारक) और ज्योतिषाचार्य योगेश मिश्र ने दीप प्रज्जवलित कर किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता हास्ययोगी शिवाराम मिश्र, संयोजकत्व हास्य योग लाफिंग क्लब ने किया।

23-09-2019004102Riteinhuman1

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्वामी डॉ. सौमित्र प्रपन्नाचार्य ने कहा कि संस्कार ही संसार की अमूल्य निधि है। उन्होंने कहा कि आत्मा के साथ ही मन को पवित्र, शुद्ध और उन्नत करना ही संस्कार है। जीवन में 16 संस्कार उत्तम विधि से करने होते हैं। इन संस्कारों का प्रभाव शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा पर पड़ता है। उन्होंने कहा कि मनुष्य जीवन को समुन्नत करना ही संस्कारों का मुख्य उद्देश्य है। 

उन्होंने कहा कि मनुष्य का जीवन कोई सीधा-साधा मार्ग नहीं है। उसमें दु:खों और कठिनाइयों के मोड़ आते हैं। जीवन में नाना प्रकार के क्रोध, लोभ, मोह, सुख आदि आते हैं। उन्होंने कहा कि संस्कार मनुष्य और आत्मा दोनों से संबंधित हैं। इसलिए माता-पिता का नैतिक धर्म है कि वे बच्चों के प्रति अपने दायित्वों का अच्छी तरह से निर्वहन करें, जिससे संस्कारवान, परिवार, समाज और राष्ट्र का निर्माण हो सके।

23-09-2019004105Riteinhuman2

योगेश मिश्र ने कहा कि सनातन धर्म में कुल 40 संस्कार पुरातन में पाए जाते थे, जो धीरे—धीरे विलुप्त होकर अब 16 ही बचे हैं। मानव जीवन ईश्वर की कृपा से ही प्राप्त होता है। हमारे बार बार पृथ्वी पर आने की वजह हमारा संस्कार है। उन्होंने कहा कि जिसके संस्कार जितने अच्छे होते हैं, उसको उतने ही उच्च कुल में जन्म मिलता है। उन्होंने कहा कि मनुष्य जीवन में संस्कारों का बड़ा महत्व है। संसार में किसी भी इंसान का आचार व व्यवहार देखकर ही उसके परिवार के संस्कारों का अनुमान लगाया जा सकता है।

उन्होंने संस्कारों के बारे में कहा कि हम कोरे कागज पर जैसा भी लिखना चाहें वैसा ही लिख सकते हैं। बच्चे का जीवन व मन भी कोरे कागज की भांति होता है। जब बच्चा छोटा होता है तभी से उसमें अच्छे संस्कार भरे जा सकते हैं। कपड़ों पर घी की चिकनाहट होने के बाद भी पूरी तरह से नहीं उतरती। ठीक इसी तरह से व्यक्ति के जीवन में संस्कारों का असर जल्दी से नहीं छूटता।

संस्कारों के महत्व पर प्रकाश डालते हुए केसरी प्रसाद शुक्ल ने कहा कि पृथ्वी पर मानव सर्वश्रेष्ठ प्राणी है, इसलिए हमें संस्कारहीन नहीं होना चाहिए, क्योंकि संस्कारहीन मानव की आने वाली नस्लें कभी उत्थान नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि हमें अच्छा दिखने का स्वभाव बनाना चाहिए, बुरा बनने का नहीं। उन्होंने कहा कि जिस राष्ट्र में नारी व गाय का अपमान होगा, वो राष्ट्र कभी भी उन्नति नहीं कर सकता है।   

23-09-2019004112Riteinhuman4

महंत बृजमोहन दास ने संस्कार के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सनातन धर्म में संस्कारों का विशेष महत्व है। इनका उद्देश्य शरीर, मन और मस्तिष्क की शुद्धि और उनको बलवान करना है, जिससे मनुष्य समाज में अपनी भूमिका आदर्श रूप मे निभा सके। संस्कार का अर्थ होता है- परिमार्जन-शुद्धीकरण। हमारे कार्य-व्यवहार, आचरण के पीछे हमारे संस्कार ही तो होते हैं। ये संस्कार हमें समाज का पूर्ण सदस्य बनाते हैं।

उन्होंने कहा कि हम अपने बच्चों को जैसा संस्कार देंगे, वैसा ही वह हमारे साथ व्यवहार करेगा। अगर हम अपने बच्चों में अमेरिका, इग्लैण्ड और रूस की संस्कृति डालेंगे तो उसमें भारतीय संस्कार कहां से आएंगे। इसलिए माता—पिता को चाहिए कि अपने बच्चों को ऐसा संस्कार दें, जिससे वे समाज और राष्ट्र का पुन: निर्माण कर सके। उन्होंने कहा कि राम चरित मानस कोई नाचने गाने की चीज नहीं है, बल्कि उसे जीवन में उतारकर समाज को लाभ दें।

बलराम दास जी महराज ने कहा कि वर्तमान समय में यह महसूस किया जा रहा है कि जैसे-जैसे शिक्षित नागरिकों का प्रतिशत बढ़ रहा है, वैसे-वैसे समाज में जीवन मूल्यों में गिरावट आ रही है। हमें मूल्यों के सौंदर्य का बोध होना चाहिए। विद्यार्थी जो देश का भविष्य हैं वे तनाव, अवसाद, बाहय आकर्षण और अनुशासनहीनता के शिकार हैं। इसका कारण पाश्चात्य संस्कृति, विद्यालय या समाज ही नहीं, बल्कि संस्कारों के प्रति हमारी उदासीनता है। उन्होंने कहा कि परिवार बालक की प्रथम पाठशाला है और माता-पिता प्रथम शिक्षक। विद्यालय में हम देख रहे हैं कि जो माता-पिता अपने बच्चों में अच्छे संस्कार आरोपित करते हैं वे वाह्य वातावरण से प्रभावित हुए बिना शिक्षक द्वारा दी गई विद्या को फलीभूत करते हैं। अत: परिवार में प्रत्येक सदस्य का दायित्व है कि बच्चों में भौतिक संसाधनों के स्थान पर संस्कारों की सौगात दें।

23-09-2019004108Riteinhuman3

कार्यक्रम के अन्त में शिवाराम मिश्र ने पीठाधीश्वर स्वामी डॉ. सौमित्र प्रपन्नाचार्य जी महाराज, श्री बलरामदास महाराज (महंत हनुमान गढ़ी), श्री बृजमोहन दास जी महराज, (महंत श्री दशरथ गद्दी), पं. केसरी प्रसाद शुक्ल (आध्यात्मिक विचारक), ज्योतिषाचार्य योगेश मिश्र, राम उजागिर मिश्र, ओमप्रकाश गिरी,अतुल अवस्थी, हरिनाथ और राधेश्याम दीक्षित को शॉल ओढ़ाकर और हनुमान जी का चित्र भेंट सम्मानति किया। कार्यक्रम का संचालन यूनाइट फाउण्डेशन के उपाध्यक्ष राधेश्याम दीक्षित ने किया। 

 

 

 

Web Title: Rite in human life is the priceless fund of the world ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया