अंतरराष्ट्रीय शिक्षक दिवस: जानिए कौन थीं देश की पहली महिला शिक्षक


NAZO ALI SHEIKH 05/10/2019 12:50:31
112 Views

Lucknow. 5 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय शिक्षक दिवस के तौर पर मनाया जाता है। विश्वभर में लोग अपने शिक्षकों को याद कर सम्मान देते हैं। हम आपको भारत की पहली महिला शिक्षक और उनके शौर्य के बारे में बता रहे हैं। वह महिला शिक्षक पूरे विश्व के लिए एक मिशाल के तौर पर हमारे दिलों में जिंदा हैं। उनका नाम सुनते ही देशवासियों का सिर फक्र से ऊपर उठ जाता है। वह महिला शिक्षक कोई और नहीं सावित्री बाई फुले हैं। शिक्षा में उनके अतुलनीय योगदान को लेकर देश और समाज हमेशा ही उनका ऋणी रहेगा।

05-10-2019133102wolrdTeacher1

आपको बता दें कि फुले जिस समय शिक्षा को आगे बढ़ाने में भूमिका निभा रहीं थी, उस दौरान लड़कियों को शिक्षा से वंचित रखते थे। उन्होंने महिलाओं को शिक्षा में आगे आने के लिए अलख जगाई और सफलता भी मिली। उनकी इस महानता के बाद समाज से कुंठित वर्ग की महिलाएं भी शिक्षा ग्रहण करने के लिए आगे आने लगीं।

शिक्षा का वह दौर तब का है, जब समाज में कुरीतियां व्याप्त थीं। महिलाओं के अधिकारों, अशिक्षा, छुआछूत, सतीप्रथा, बाल विवाह जैसी कुरीतियों का काफी बोलबाला था उस दौरान डर के कारण कोई भी महिला अपनी आवाज नहीं उठा पाती थीं। विषम हालातों में भी सावित्री बाई फुले ने अधिकारों के लिए आवाज उठाई और महिलाओं को शिक्षा की प्रमुख धारा में जोड़ने का अहम काम कर दिखाया।

ज्ञात हो कि सावित्री फुले का जन्म जनवरी 1831 को महाराष्ट्र के सतारा जिले स्थित नायगांव के एक छोटे से गांव में हुआ था। उनकी शादी 9 साल की उम्र में ही ज्योतिबा फुले के साथ कर दी गई थी। जब उनकी शादी हुई तो कुछ भी पढ़ी लिखी नहीं थी। हालांकि, उनके पति तीसरी कक्षा तक पढ़े थे। इतिहासकार बताते हैं कि फूले को अंग्रेजी की किताब पढ़ते उनके पिता ने देखा और पास पहुंचकर डांट लगाते हुए मना कर दिया।

फुले ने जब अपने पिता से पूछा कि उनकी किताब क्यों फेंक दी। इस पर उन्होंने जवाब दिया कि शिक्षा ग्रहण करने का अधिकार केवल उच्च जाति के पुरुषों का है। उस रुढ़िवादी दौर में तो  दलितों के साथ महिलाओं के लिए भी पढ़ाई करना अपराध माना जाता था। लेकिन पिता की इन बातों को सुनने के बाद सावित्रीबाई ने प्रण किया कुछ भी हो जाए वह शिक्षा जरूर ग्रहण करेंगी। इसके बाद वह सबकुछ कर दिखाया जो उनको करना था।

Web Title: wolrd Teacher s Day: know who was the first female teacher of the country ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया