मुसलमानों के साथ क्रूर व्यवहार पर अमेरिका ने की कार्रवाई, तिलमिलाया चीन


DEEP KRISHAN SHUKLA 09/10/2019 10:15:20
29 Views

- विदेश मंत्री पोम्पियों ने ट्वीट कर दी जानकारी
- चीनी अधिकारियों के वीजा पर लगाई रोक
- चीन ने बताया अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का उल्लंघन

 

Washington. अमेरिका में चीनी अधिकारियों के वीजा पर प्रतिबंध लगाए जाने से दोनों देशों के बीच एक बार फिर से टकराव की स्थिति बन गयी है। चीनी दूतावास ने तो ट्रंप प्रशासन को अपनी गलती सुधारने की नसीहत तक दे दी है। चीन में कहा अमेरिका हमारे देश के आंतरिक मामलों में दखल नहीं दे सकता है। बता दें कि चीन में उइगर और अन्य मुसलमानों पर हो रही दमनात्मक कार्रवाई पर अमेरिका ने यह कदम उठाया है। 

09-10-2019102325Americatakes1
 

गौरतलब हो कि चीन के शिनजियांग प्रांत में 10 लाख से अधिक मुसलमानों के साथ क्रूर और अमानवीय व्यवहार करने और उन्हें बलपूर्वक हिरासत में रखने का आरोप लगाते हुए अमेरिका ने चीन सरकार और कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों के वीजा पर प्रतिबंध लगाया है। 
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने मंगलवार को इस संबंध में ट्वीट किया था। इस ट्वीट में पोम्पियो ने कहा कि शिनजियांग प्रांत में उइगरों, कजाकों और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यक समूहो को कैद कर उन पर अत्याचार किए जा रहे है। 
इसके जिम्मेदार चीनी सरकार और कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों के वीजा पर प्रतिबंध लगाए जाने की मैं घोषणा कर रहा हूं।

09-10-2019102535Americatakes2
 

पोम्पियो के ट्वीट के बाद अमेरिका में चीनी दूतावास ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। दूतावास ने ट्वीट के जरिए अमेरिका के इस फैसले को अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का उल्लंघन बताया है। 
कहा कि अमेरिका ने चीन के हितों की अनदेखी करते हुए उसके आंतरिक मामलों में दखल देने का काम किया है जिसकी हम कड़े शब्दों में आलोचना करते हैं। 
दूतावास ने एक अन्य ट्वीट में बताया कि अमेरिका के दावे झूठे और बेबुनियाद है। शिनजियांग प्रांत में कुछ भी ऐसा नहीं हो रहा है जैसे आरोप अमेरिका की ओर से लगाए जा रहे हैं। 
  बढ़ा दोनों देशों के बीच तनाव
अमेरिकी विदेश मंत्री द्वारा चीनी अधिकारियों के वीजा पर प्रतिबंध लगाए जाने की घोषणा ने दोनों देशों के बीच नया विवाद खड़ कर दिया है। मालूम हो कि पहले से ही व्यापारिक हितों को लेकर अमेरिका और चीन के बीच लम्बे समय गतिरोध बना हुआ है। ऐसे में इस घोषणा ने आग में घी डालने का काम किया है। बता दें कि दो दिन बाद ही वाॉशिंगटन में उच्चस्तरीय वार्ता होने वाली थी। इस माहौल ये वार्ता अपने उद्देश्यों की पूर्ति कैसे कर पाएगी। इस स्थित में इस वार्ता की सफलता को लेकर अभी से संशय माना जा रहा है। 

यह भी पढ़ें...राजस्थान: यहां दशहरा के जुलूस पर हुआ पथराव, लगा कर्फ्यू, इंटरनेट सेवाएं बंद

 

 

 

Web Title: America takes action on cruel treatment on Muslims, China stung  ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया