श्रीमद भागवत कथा श्रवण करने से मानसिक विकारों का होता है नाश : श्याम नंन्दन सिंह


NP1591 15/10/2019 18:57:04
108 Views

Lucknow: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के जानकीपुरम स्थित गोमती लान सेंट मैरी हॉस्पिटल के पीछे कुर्सी रोड पर मंगलवार, 15 से 23 अक्टूबर तक आयोजित श्रीमद भगवत कथा का शुभारम्भ उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग के अध्यक्ष श्यामनन्दन सिंह और कथा व्यास श्री अतुल जी महराज रामायणी ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम के शुभारम्भ के बाद श्यामनन्दन सिंह ने कथा व्यास श्री अतुल जी महराज को अंगवस्त्र भेंट कर स्वागत किया।

15-10-2019190908ListeningtoS1

उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए श्याम नन्दन ने श्रद्धालुओं से कहा कि श्रीमद भागवत कथा श्रवण करने से मानसिक विकारों का नाश होता है।  उन्होंने कहा कि भागवत कथा श्रवण से मानव को मुक्ति मिल सकती है। इस तरह के आयोजन से समाज में शांति, खुशहाली का वातावरण कायम होता है। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण बचपन में अपने लिए नहीं, बल्कि अपनी बाल सखा के लिए माखन चोरी करते थे। उन्होंने कहा कि जब किसी क्षेत्र का पुण्योदय होता है तभी वहां भागवत कथा कही जाती है। भागवत कथा मोक्षप्रदायिनी है। इसे श्रद्धालुओं को श्रवण कर अपने जीवन में उतारने की जरूरत है।

15-10-2019190936ListeningtoS2

उद्घाटन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद कथावाचक श्री अतुल जी महराज रामायणी ने श्रद्धालुओं को भागवत कथा का मर्म, उसके श्रवण से होने वाले लाभ के बारे में विस्तार से बताया। कथा व्यास- श्री अतुल जी महराज रामायणी ने भागवत कथा के पहले दिन कहा कि भगवान परीक्षा से नहीं प्रतीक्षा से प्राप्त होते है। उन्होंने कहा कि जिस इंसान के अंदर धैर्य होता है उसे हर चीज प्राप्त होती है, वह चाहे ईश्वर ही क्यूं न हो। महराज जी ने कहा कि राजा दशरथ और शबरी ने प्रतिक्षा करके पी भगवान को पाया था।

15-10-2019191017ListeningtoS3

उन्होंने कहा कि भागवत कथा वेद रूपी कल्प वृक्ष का पका फल है। जिसमें रस ही रस भरा हुआ है। ऐसे भागवत कथा का रसपान कर सभी जीवों को मोक्ष प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति अपने माता-पिता का अपमान करता है, वह मरने के बाद प्रेत योनि में जन्म लेता है।  कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में यूनाइट फाउण्डेशन के अध्यक्ष पी.के त्रिपाठी, उपाध्यक्ष राधेश्याम दीक्षित, सनातन ज्ञान पीठ के संस्थापक योगेश कुमार मिश्र आदि लोग मौजूद थे। कार्यक्रम के आयोजन मंण्डल में अध्यक्ष अरविंद चन्द्र मन्ना, उपाध्यक्ष सुनील सिंह, उपाध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद, संयोजक सुरेश यादव, महासचिव शरद मिश्र, सहसंयोजक दिलीप यादव,  सहसंयोजक जयप्रकाश और कोषाध्यक्ष नीतीश वाजपेयी आदि लोग शामिल है। 


 

Web Title: Listening to Shrimad Bhagwat Katha kills mental disorders: Shyam Nandan Singh ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया