अयोध्या केस: मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी का ऐलान, SC के फैसले को कभी नहीं देंगे चुनौती


NP1509 17/10/2019 12:24:33
47 Views

Ayodhya. देश के सबसे संवेदनशील मुद्दे अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई आखिरकार बुधवार को खत्म हो गयी। कोर्ट ने इस मामले में फैसले को सुरक्षित रख लिया है। अब सभी को इस मुद्दे पर कोर्ट के फैसले का इंतजार है। वहीं इस मामले में बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट जो भी फैसला सुनाता है उसे वह मानेंगे और फैसले को चुनौती नहीं देंगे। 

17-10-2019123223Ayodhyacase1

बता दें कि इकबाल अंसारी के पिता हाशिम अंसारी जो बाबरी मस्जिद मामले में सबसे पुराने पक्षकार थे। हाशिम अंसारी की 95 साल की उम्र में मृत्यु जुलाई 2016 में हुई थी, जिसके बाद इकबाल अंसारी अपने पिता की जगह बाबरी मस्जिद के मुख्य पक्षकार की भूमिका निभा रहे हैं। 

इकबाल अंसारी कहते हैं कि वह खुश हैं कि मामला अपने तार्किक निष्कर्ष पर पहुंच रहा है। लगभग 70 वर्षों तक, अयोध्या ने इस मामले पर सिर्फ राजनीति देखी है, अब उन्हें उम्मीद है कि यहां कुछ विकास होगा। 

मुस्लिम पक्षकार ने कहा कि उन्होंने अपने पिता की ओर से शुरू की गई लड़ाई को निभाने की कसम खाई थी और उन्होंने अपना वादा पूरा किया। उनके पिता की यह इच्छा थी कि वह उनके बाद केस लड़ते रहें।

यह भी पढ़ें:-...Ayodhya Case: आखिरी सुनवाई में दोनों पक्षों ने पेश की ये अहम दलीलें और साक्ष्य

1949 में बाबरी टाइटल सूट से जुड़े थे हाशिम अंसारी 

इकबाल अंसारी के पिता हाशिम अंसारी का नाम 1949 से बाबरी टाइटल सूट से जुड़ा था। उनका नाम सार्वजनिक सौहार्द को भंग करने के लिए गिरफ्तार किए गए लोगों में भी था, जब मस्जिद में राम की मूर्तियां लगाई गई थीं। वहीं, 1952 में विवादित स्थल पर नमाज़ के लिए 'अजान' देने के लिए हाशिम अंसारी को दो साल की जेल की सजा सुनाई गई थी।

1961 में, हाशिम अंसारी और छह अन्य लोग फैजाबाद के सिविल जज की अदालत में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से दायर किए गए टाइटल सूट में मुख्य वादी थे। 

Web Title: Ayodhya case: Babri Masjid party Iqbal Ansari said that he will not challenge Supreme Court verdict ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया