उन्नाव: श्मशान घाट में भिड़े दो पक्ष जमकर हुई मारपीट


NP1534 17/10/2019 14:16:51
40 Views

- दो जनपदों की पुलिस की मौजूदगी में हुआ दाह संस्कार
- घटना की पृष्ठभूमि में जमीन विवाद की बात
- दो जिलों के सीमावर्ती इलाके की घटना

Unnao. राजधानी के पड़ोसी जनपद उन्नाव के बारासगवर थाना क्षेत्र दाह संस्कार के दौरान दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। इस घटना में तकरीबन दो दर्जन से अधिक लोग घायल हुए हैं। मामला सीमावर्ती क्षेत्र का होने के चलते घटना की सूचना पर दो जनपदों की पुलिस आनन फानन मौके पर पहुंची। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में शव का अंतिम संस्कार हुआ। घटना की पृ​ष्ठभूमि में दाह संस्कार स्थल की बेशकीमती जमीन का विवाद सामने आ रहा है। फिलहाल पुलिस अभी तक किसी बलवाई को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। 

17-10-2019142218UnnaoTwosid1
 

मिली जानकारी के अनुसार फतेहपुर जनपद के औंग कस्बा की 80 वर्षीया धूनदेवी के निधन के बाद परिजन और ग्रामीण शव का अंतिम संस्कार करने गंगा तट पर पहुंचे थे। 
आरोप है कि जैसे ही वे उन्नाव जनपद के बारासगवर थाना क्षेत्र के लालाखेड़ा मजरे उसरहापुरवा पहुंचे तो वहां के निवासियों ने उन्हें शवदाह से रोक रोक दिया। 
शव यात्रा में शामिल लोगों ने विरोध किया तो दूसरे पक्ष के लोगों मारपीट शुरू की। इसके बाद कोई बचाव में तो दवाब बनाने के लिए एक दूसरे पर जुट पड़ा। 
दो जिलों के दो गांवों के ग्रामीणों के बीच सीमा क्षेत्र में हो रहे इस संघर्ष की सूचना से पुलिस के हाथ पांव भी फूल गए। 
आनन फानन दोनों ही जिलो से यूपी डायल 100 के अलावा थानों की पुलिस पहुंच गयी। भारी पुलिस बल की मौजूदगी के देर शाम 7 बजे मृतक का दाह संस्कार हो सका। 

17-10-2019142308UnnaoTwosid3
 

  मारपीट में ये हुए घायल 
श्मशान घाट पर हुई मारपीट की इस घटना में कई लोग घायल हुए। घायलों में मोनू पटेल (32), जयदीप (24), सुरेश (35), गुड्डू (38), महेश (32), नवल (40),
चंद्रिका (45), मिथिलेश कुमार (27), व सागर समेत (50) समेत एक दर्जन से अधिक लोग हैं। ये सभी पड़ोसी जनपद के होने के कारण इलाज के लिए वहां चले गए।   
  कहीं श्मशान घाट की बेशकीमती जमीन तो नहीं वजह
घटना के पीछे श्मशान घाट की बेशकीमती जमीन को वजह माना जा रहा है। लोगों का मानना है कि मामले में राजनीतिक ध्रुवीकरण के लिए ग्रामीणों को उकसाकर घटना को अंजाम दिया गया। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि भयवश को श्मशान घाट की ओर शव लेकर न जाए ताकि यह जमीन कब्जाई जा सके। 
  एक माह पहले भी हुई थी ऐसी ही घटना
यह कोई पहला मामला नहीं है एक माह पहले भी ऐसी एक घटना हुई थी। बीती 15 सितम्बर को बड़ाहार गांव के रहने वाले मौजीलाल की शव यात्रा में गए ग्रामीणों से भी मारपीट की गयी थी। उस घटना के दौरान तत्कालीन थानाध्यक्ष ने कार्रवाई का भरोसा दिलाया था। सीमा विवाद के चलते पुलिस अपनी जिम्मेदारी से पाला झाड़ती रहती है। 

यह भी पढ़ें...पाक का नापाक प्लान: अयोध्या मसले की आड़ में दिल्ली और यूपी दहलाने की साजिश

 

 

 

विडियो क्रेडिट - यू ट्यूब 

Web Title: Unnao: Two sides clashed in the cremation ground ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया