इस टैम्‍पो चालक ने गर्लफ्रेंड से किया वादा निभाया, अब अधिकारी भी कर रहे सलाम


NAZO ALI SHEIKH 19/10/2019 16:30:41
51 Views

Lucknow. इंसान की मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, सफलता पाने की चाह हो तो हर मुश्किलों को पाया जा सकता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है मनोज कुमार शर्मा नाम के शख्स ने। मनोज की यह कहानी उनके दोस्त अनुराग पाठक ने किताब की शीर्षक '12th फेल, हारा वही जो लड़ा नहीं ' में बखूब लिखी है। इस कहानी में संघर्ष वह हकीकत है, जिसे आप कभी भुला नहीं पाएंगे। यही नहीं यह कहानी आपको जीवन में कुछ करने के लिए प्रेरणा भी देगी। कहानी में यह बात काफी दिलचस्प है कि मनोज कभी टैंपो चलाया करते थे। उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड को आईपीएस बनने का वादा किया था और उसे तमाम संघर्षों को झेलते हुए कर दिखाया।

19-10-2019163204Tampodriverf1

एसडीएम की प्रशासनिक पावर को देख मनोज के मन में परीक्षा पास कर इस पद को हासिल करने का विचार आया। वह 12वीं फेल थे और परिवार भी गरीब था। इसलिए उन्होंने और उनके भाईयों को टैंपो तक चलाना पड़ा था। एक बार मनोज का टैंपों पुलिस ने पकड़ लिया तो वह सहायता मांगने एसडीएम के पास पहुंच गए। जब उनसे एसडीएम ने पढ़ाई के बारे में सवाल किया। मनोज ने उनको यह नहीं बताया कि वह 12वीं फेल है। इसके बाद वह ग्वालियर चले आए। मनोज के पास रुपए नहीं थे, इस कारण वह मंदिर में भिखारियों के पास सोते थे। 

यहां उनको लाइब्रेरी में चपरासी की नौकरी मिल गई। पुस्तकालय में रहकर उन्होंने गोर्की और अब्राहम लिंकन जैसे कई महान हस्तियों के बारे में अध्ययन किया। किताबें पढ़कर कुछ बनने का सपना देखा और तैयारी में जुट गए। मनोज के जीवन की कहानी में एक दिलचस्प मोड़ यह भी है कि वह किसी लड़की से सच्चा प्यार करते थे। लेकिन इंटरमीडिएट फेल होने के कारण दिल की बात कहने से डरते थे। मनोज ग्वालियर से दिल्ली आ गए। उनके पास रुपए नहीं होने के कारण कुत्ते टहलाने की नौकरी कर ली। इस काम के लिए उनको चार सौ रुपए प्रति कु्त्ते के मिलते थे। उन्होंने अपनी तैयारी जारी रखी। उनके सर दिव्यकीर्ति ने तैयारी करने के लिए एडमिशन की फीस भरी थी।

यह भी पढ़ें... अकाली दल को लगा करारा झटका,सुखदेव सिंह ढीढ़सा ने राज्यसभा सदस्यता से दिया इस्तीफा

पहले ही प्रयास में प्री परीक्षा बड़ी आसानी से पास कर ली। दूसरे और तीसरे प्रयास में उनको नौकरी नहीं मिली। चौथी बार जब वह परीक्षा में बैठे तो मेंस में पहुंच गए। अंग्रेजी कमजोर होने के कारण उनको मेंस की परीक्षा में दिक्कत आई। वह बताते हैं कि एक लड़की से प्यार करते थे, उस लड़की से यह कहा था कि यदि तुम साथ दो तो मैं दुनिया पलट सकता हूं। इसके बाद उन्होंने मेंस की परीक्षा पास की और आईपीएस बन गए।

Web Title: Tampo driver fulfilled the promise given to his girlfriend, now the officers are also saluting ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया