कमलेश तिवारी हत्याकांड: पुलिस अफसरों के अलग-अलग बयानों से उठ रहे सवाल!


NP1357 21/10/2019 13:31 PM
298 Views

Lucknow. प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हिन्दू समाज पार्टी (Hindu Samaj Party) के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) मामले में पुलिस (Police) ने अब तक पांच लोगों को हिरासत में लिया है। वहीं, वारदात को अंजाम देने वाले दो हत्यारे अभी भी पुलिस (Police) गिरफ्त से बाहर हैं। पुलिस की टीमें दोनों आरोपियों की तलाश में जुटी हैं। इस बीच पुलिस की ओर से दिये गये बयानों को लेकर भी सवाल उठ रहे  हैं।  

up police ke alag alag bayan

कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) मामले राजधानी पुलिस को होटल खालसा (Hotel Khalsa) से अहम सबूत भी मिले हैं। बताया जा रहा है कि खालसा होटल (Hotel Khalsa) में ही हत्यारे रुके थे। दोनों हत्यारों की पहचान गुजरात के सूरत निवासी शेख अशफाकुल हुसैन और मोईन पठान के रूप में हुई है। होटल से भगवा कपड़े, चाकू और बैग बरामद हुआ है। पुलिस इस मामले में गहनता से छानबीन कर रही है। वहीं, इस घटनाक्रम को लेकर पुलिस की ओर से आए बयानों को लेकर भी सवाल उठ रहे है।

शुरुआती जांच में आपसी रंजिश की बात सामने आई: एसएसपी

एसएसपी कलानिधि नैथानी (SSP Kalanidhi Naithani) ने 18 अक्टूबर को कहा था कि शुरुआती जांच में आपसी रंजिश का मामला लग रहा हैं। घटना से ऐसा लग रहा है कि कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) के जानने वाले ने ही उनकी हत्या की है।

डीजीपी ने घटना के आतंकी संगठन से जुड़े होने की आशंका से इनकार किया था

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह (DGP O.P. Singh) ने 19 अक्टूबर को कहा था कि कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) का कनेक्शन गुजरात से हैं। उन्होंने इस वारदात के आतंकी संगठन ने जुड़े होने की आशंका से इनकार किया था। उन्होंने कहा था कि ऐसा लग रहा है कि 2015 में कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की ओर से दिये गए बयान की वजह से उनकी हत्या की गई है। उन्होंने कहा था कि सभी आरोपियों के पकड़े जाने के बाद ही साफ हो सकेगा।

घटना के हर पहलू पर हो रही जांच - डीजीपी

वहीं, 21 अक्टूबर को डीजीपी ओपी सिंह (DGP O.P. Singh) से जब इस घटना के किसी आतंकी संगठन से जुड़े होने के बाबत पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम हर कोण पर जांच कर रहे हैं। महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक के डीजीपी (DGP) व एटीएस (ATS) से लगातार हम संपर्क में हैं। आतंकियों के सेल्फ मोटिवेटेड स्लीपिंग मॉड्यूल भी होते हैं। हम किसी भी संभावना से इंकार नहीं कर रहे हैं। लेकिन सभी आरोपी की गिरफ्तारी के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

up police ke alag alag bayan

सीएम योगी से कमलेश तिवारी के परिवार ने की मुलाकात

बता दें कि कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की परिजनों ने रविवार को सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) से मुलाकात की थी। मुलाकात के बाद कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की मां कुसुम तिवारी (Kusum Tiwari) ने असंतोष जताया था। उन्होंने कहा था कि हिन्दू धर्म में किसी की मृत्यु हो जाने पर 13 दिन घर से कहीं बाहर नहीं निकला जाता है, लेकिन पुलिस पीछे पड़ी थी, मुझे मजबूरी में सीएम (CM) से मिलने आना पड़ा। उन्होंने कहा कि हमारी इच्छा के मुताबिक सीएम योगी (CM Yogi) का न हाव था और  न भाव। उन्होंने कहा कि यदि हमें इंसाफ नहीं मिल तो हम खुद तलवार उठाएंगे। 

बेटे ने की थी एनआईए जांच की मांग

इससे पहले कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) के बेटे ने एनआईए से जांच कराने की मांग की थी। वहीं, परिवार ने मंदिर  विवाद में हत्या किये जाने की आशंका जताई थी। परिवार ने बीजेपी नेता पर भी साजिश में शामिल होने का आरोप लगाया था।

यह भी पढ़ें - 

विधानसभा उपचुनाव के मतदान के बीच बसपा सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार को दी ये बड़ी सलाह, कहा...

यूपी उपचुनाव: रामपुर के मतदान में खलल डाल रहे थे फर्जी पोलिंग एजेंट, एक का BJP से है संपर्क

Web Title: up police ke alag alag bayan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया