स्पोर्टस कालेज में अभिलेख न मिलने पर दर्ज होगी एफआईआर


NP1181 01/11/2019 11:33:45
33 Views

LUCKNOW. गुरू गोविन्द सिंह स्पोर्टस कालेज के अभिलेखों के न मिलने के प्रकरण को गम्भीरता से लेते हुए प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि इससे जुड़े सभी संबंधितों के विरूद्ध प्राथमिक रिपोर्ट दर्ज कराई जाय। उन्होंने स्पोर्टस् कालेजों के विरूद्ध चल रहे 32 अदालती मामलों की प्रभावी पैरवी सुनिश्चित करने के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए। खेल मंत्री ने कहा कि खेल विभाग के सभी कार्य तथा शासन को पत्राचार आदि के कार्य खेल निदेशालय के माध्यम से किये जायं। साथ ही सम्पूर्ण बजट व्यय विवरण भी समय से उपलब्ध कराया जाय। श्री तिवारी विधान भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष में खेलों का स्तर बढ़ाने और स्पोटर्स कालेजों में प्रधानाचार्य पद पर नियुक्ति के संबंध में खेल विभाग एवं स्पोर्टस् कालेज सोसाइटी के सदस्यों के साथ बैठक कर रहे थे। 

01-11-2019114744Ifthereisno3

 

 

स्पोर्टस् कालेज परिसरों में रह रहे सभी अनाधिकृत लोगों को तत्काल बाहर किया जाय 
श्री तिवारी ने अधिकारियों को स्पष्ट तौर पर निर्देशित किया कि स्पोर्टस् कालेज परिसरों में रह रहे सभी अनाधिकृत लोगों को तत्काल बाहर किया जाय और भविष्य में इस प्रकार की पुनरावृत्ति न होने पाये। उन्होंने खेल विभाग के अधीन प्रदेश के सभी स्थाई व अस्थाई कर्मचारियों तथा आउसोर्सिंग कर्मियों की सूचना तत्काल उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए। उन्होने कहा कि स्पोटर्स कालेजों में प्रधानाचार्य पद पर नियुक्ति/प्रतिनियुक्ति के लिए ओलम्पिक गेम्स, एशियन गेम्स, विश्वकप या कामनवेल्थ गेम्स में पदक जीतने वाले अन्तरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को प्राथमिकता दी जाएगी। इसके साथ ही ख्याति प्राप्त एवं खेलों में विशेष योगदान देने वाले खिलाड़ियों व अन्य विभागों में कार्यरत खेल सम्बन्धी अर्हताधारक अधिकारी भी प्रधानाचार्य पद के पात्र होंगें। उन्होंने कहा कि खेल विभाग स्पोर्टस कालेजों में खेलों का वातावरण बेहतर बनाने के लिए पूरी तरह सजग और संवेदनशील है।


   बैठक में 1975 की खेल नियमावली में प्रधानाचार्य पद पर नियुक्ति के संबंध में 06 अगस्त, 2017 को किये गये संशोधन को तत्काल प्रभाव से समाप्त करने का निर्णय लिया गया। इसके साथ ही स्पोर्टस् कालेजेज़ में स्थाई रूप से प्रधानाचार्यों की नियुक्ति/प्रतिनियुक्ति न हो जाने तक क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी/उपनिदेशक को कार्यवाहक प्रधानाचार्य के पद पर कार्य करते रहने का भी फैसला लिया गया।
01-11-2019114522Ifthereisno1 
स्पोर्टस् कालेजों में निश्चित मानदेय पर मनोचिकित्सक एवं फिजियोथेरेपिस्ट रखे जायेंगे
 उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर वित्तीय अनियमितता, अव्यवस्था, लापरवाही या कार्यों में उदासीनता पाये जाने पर संबंधित के विरूद्ध कठोरतम कार्रवाई सुनिश्चित की जायेगी। श्री तिवारी ने कहा कि प्रदेश में खेल प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है और उनको प्रोत्साहित करने तथा उनकी प्रतिभाओं को निखारने के लिए आवश्यकतानुसार कालेजों एवं छात्रावासों में सीटें बढ़ायी जायेंगी। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को हर स्थिति में मनोवैज्ञानिक व शारीरिक रूप से मजबूत बनाने के लिए स्पोर्टस् कालेजों में निश्चित मानदेय पर मनोचिकित्सक एवं फिजियोथेरेपिस्ट रखे जायेंगे। बैठक में विशेष सचिव खेल, राजेश कुमार, अपर नगर मजिस्ट्रेट पूजा मिश्रा, खेल निदेशक आर0पी0 सिंह, उपसचिव खेल विनीत प्रकाश सहित खेल विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 

 

 

 

Web Title: If there is no record in sports college, FIR will be registered ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया