और जब आवारा मवेशियों को लेकर पुलिस को करना पड़ा ग्रामीणों के विरोध का सामना


NP1534 07/11/2019 22:38:22
36 Views

- तस्करों से बरामद कन्टेनर मवेशियों को उतरवाने गांव पहुंची थी पुलिस
- जबरदस्त विरोध के चलते पुलिस को पड़ा लौटना

Unnao. आवारा मवेशियों की समस्या निदान की लम्बी चौड़ी बातों के बीच अब यह समस्या विस्फोटक होने की ओर बढ़ चली है। कुछ ऐसा ही नजारा गुरुवार देर शाम अचलगंज थाना क्षेत्र में देखने को मिला। हुआ दरअसल यूँ कि यहां पहले से ही अस्तव्यस्त गौशाला में पुलिस बरामद किए गए मवेशियों से भरा कन्टेनर लेकर पहुंच गई। जिसे देख आवारा मवेशियों का दंश झेल रहे ग्रामीण विरोध पर उतर आए। काफी देर तक चले ड्रामे के बाद आखिरकार पुलिस को कदम पीछे हटाने पड़े। इस दौरान कन्टेनर में बंद रहने के कारण कुछ मवेशियों की मौत होने की आशंका भी जताई जा रही है। फिलहाल पुलिस मवेशियों से भरा कन्टेनर लेकर मौके से अन्यत्र रवाना हो गयी है। 

07-11-2019231115Andwhenpolic1
 

मिली जानकारी के मुताबिक अचलगंज थाना क्षेत्र के चपरी शाहपुर में के किसान पहले से ही आवारा जानवरों की समस्या से जूझ रहे है। 
गुरुवार शाम अचलगंज थाने की पुलिस तष्करों से बरामद पशुओं से भरा कन्टेनर लेकर गांव पहुँच गयी।इसकी भनक लगते ही वहां ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गयी और मवेशी उतारने का विरोध करने लगी। 
ग्रामीणों का कहना था कि गांव में बनी अस्तव्यस्त गौशाला में पहले से ही अव्यवस्थाओं का अंबार है। बाउंड्रीवाल न होने के कारण यहां जो निराश्रित जानवर पहले रखे गए वो ही फांद फांद कर बाहर आ चुके है। नतीजे में बाहर आने वाले मवेशी खेतों में खड़ी फसलों के लिए समस्या बनते है। 
यही वजह है कि खाकी का डर भी ग्रामीणों को नही रोक पा रहा है। सब विरोध में कैंटेनर के पास खड़े हैं। उनका कहना है कि किसी भी हालत में यहां जानवर नही उतारे जाएंगे। 
पहले बाउंड्रीवाल बने फिर प्रशाशन चाहे जितने जानवर और चाहे जहां से लाके यहां रख दे। थानाध्यक्ष ने बताया हम लोग कैंटनर लेके आये हैं पर विरोध मवेशी उतारे नही गए हैं। 
मौके हालातों से एसडीएम को करा दिया गया है आगे जैसे आदेश मिलेंगे किया जाएगा। हलांकि काफी देर तक चले इस नाटकीय घटनाक्रम के बाद पुलिस को बैकफुट पर आना पड़ा और मवेशी लदा कन्टेनर लेकर पुलिस मौके से रवाना हो गयी। 
ग्रामीणों की माने तो कन्टेनर से दुर्गन्ध आने लगी थी जिससे अनुमान लगाया जा रहा है कि ज्यादा देर तक बंद रहने के कारण घुटन से कुछ मवेशियों की मौत हो गयी। 
अब ऐसे में एक बड़ा यक्ष प्रश्न यह उठता है कि आखिर गोरक्षक सरकार में कन्टेनर में लदे मवेशियों की मौत का जिम्मेदार कौन है? 

यह भी पढ़ें...अब आसान किश्तों में अपना बकाया अदा कर सकेंगे घरेलू बिजली उपभोक्ता

 

 

Web Title: And when police had to face opposition from villagers over stray cattle ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया