सियासी दुनिया में अभी तक जिंदा है 'नोटबंदी'


NAZO ALI SHEIKH 08/11/2019 09:37 AM
33 Views

Lucknow. 8 नवंबर, 2016 भला कौन भूल सकता है उस दिन को जब प्रधानमंत्री मोदी ने रात 8 बजे 500 और 1000 के पुराने नोट बंद करने का ऐलान कर दिया था। इसके फौरन बाद ही मानो पूरे देश में भूकंप सा आ गया था। एटीएम के बाहर लोगों की लंबी कतारें जमकर शॉपिंग और ढ़ेरों कमेंट्स। नोटबंदी पर सियासी बयानबाजी भी जमकर हुई। सत्ता पर काबिज सरकार ने जहां फैसले को देश के हित में बताया वहीं विपक्ष ने जमकर इसकी आलोचना की थी। 

Demonetisation is still alive in the political world

आज नोटबंदी को तीन साल हो गए हैं लोगों के जहन में उसकी हल्की यादें हैं। लेकिन हमारे नेता इस मुद्दे को लगातार ताजा करके सियासी मुद्दा बनाने की पुरजोर कोशिश करते हैं। लोकसभा चुनाव ही नहीं बल्कि विधानसभा चुनावों में भी बीजेपी के खिलाफ नोटबंदी का खूब सहारा लिया गया। 

यह भी पढ़ें... और जब आवारा मवेशियों को लेकर पुलिस को करना पड़ा ग्रामीणों के विरोध का सामना

  प्रियंका गांधी की पीएम को चुनौती

लोकसभा चुनावों में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को यूपी की कमान सौंपी गई। प्रचार के दौरान उनके और पीएम मोदी के पीच खूब बयानबाजी हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस को चुनौती दी कि अंतिम दो दौर के चुनाव वह पूर्व पीएम राजीव गांधी के नाम पर लड़ें। इस पर जवाब देते हुए प्रियंका ने पीएम को नोटबंदी और जीएसटी पर चुनाव लड़ने की चुनौती दे डाली थी। 

Demonetisation is still alive in the political world

  महाराष्ट्र चुनावों में राहुल ने चला कार्ड

कांग्रेस ने महाराष्ट्र और हरियाणा में हुए विधानसभा चुनावों में भी नोटबंदी का जिक्र किया। मौका मिलने पर उसने भाजपा पर हमला बोला। अक्तूबर में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने महाराष्ट्र के यवतमाल में हुई चुनावी रैली में एनडीए सरकार पर गलत आर्थिक नीतियों का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि देश में बेरोजगारी के पीछे नोटबंदी और जीएसटी जैसे गलत फैसले हैं। राहुल ने दावा किया कि उनके गुजरात दौरे के दौरान कारोबारियों ने बताया कि नोटबंदी और जीएसटी ने उनकी कमर तोड़ दी।

Web Title: Demonetisation is still alive in the political world ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया