राम मंदिर निर्माण से खुद को दूर रखे सरकार: विहिप


NP1509 12/11/2019 09:20 AM
57 Views

Ayodhya. अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर राम मंदिर के लिए ट्रस्ट का गठन इसी महीने हो सकता है। संस्कृति मंत्रालय के अधीन बनने वाले इस ट्रस्ट के लिए सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट का मॉडल अपनाए जाने की संभावना है। वहीं, मंदिर आंदोलन की अगुवाई करने वाली विश्व हिंदू परिषद (विहिप) नहीं चाहती है कि ट्रस्ट में सरकार का कोई प्रतिनिधित्व हो और वह मंदिर निर्माण से खुद को दूर रखे। 

Vishwa Hindu Parishad does not want government representation in Ram Mandir Trust

संगठन की मांग है कि ट्रस्ट में न तो सरकार का कोई प्रतिनिधित्व हो और न ही वैष्णव, शैव और सगुण ब्रह्म को मानने वालों के अलावा किसी अन्य मतावलंबियों को जगह मिले। संगठन की मांग है कि पूजा पद्धति को परिवारवाद से बचाने के लिए विहिप ने बद्रीनाथ मॉडल अपनाए जाने की वकालत की है, जहां ब्रह्मचारी रहने तक ही पुजारी पद पर रह सकता है।

विहिप के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय का कहना है कि ट्रस्ट पर सरकार से बातचीत नहीं हुई है। हालांकि उनका मानना है कि उसमें मंत्रियों या अफसरों को शामिल नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह नहीं चाहते कि मंदिर निर्माण की निरंतरता में अधिकारियों के तबादले या मंत्रियों के पद से हटने से बाधा आए। इसलिए सरकार को मंदिर निर्माण से खुद को दूर रखना चाहिए। 

बता दें कि पीएम मोदी की इच्छा है कि वैश्विक स्तर पर बड़ा संदेश देने के लिए ट्रस्ट में भारत की विविधतापूर्ण संस्कृति दिखाने के लिए अन्य धर्मों के प्रतिष्ठित लोगों को भी शामिल किया जाए। इसलिए रविवार को एनएसए डोभाल ने भी इस बारे में धर्मगुरुओं का मन टटोला था।

यह भी पढ़ें:-...बिहार: कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान के दौरान डूबने से 7 की मौत

Web Title: Vishwa Hindu Parishad does not want government representation in Ram Mandir Trust ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया