बाबरी मस्जिद तोड़ने वाले कभी जेल नहीं गए बल्कि उन्हें सम्मानित किया गया : आनंद पटवर्धन


NAZO ALI SHEIKH 12/11/2019 09:40:36
124 Views

Mumbai. भारत के सबसे ज्यादा अतिसंवेदनशील अयोध्या मामले में फैसला सुनाए जाने और राम मंदिर को मालिकाना हक दिए जाने के बाद बॉलीवुड हस्तियों ने लगातार इस पर अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। 

12-11-2019094338Thosewhobrok1

सलीम खान और जावेद अख्तर ने बीते दिनों इस फैसले का स्वागत करते हुए अपनी राय रखी कि मस्जिद के लिए दी गई 5 एकड़ जमीन में मस्जिद न बनाकर स्कूल या हॉस्पिटल बनाया जाना चाहिए। वहीं अब निर्देशक आनंद पटवर्धन का बयान आया है वह सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से बहुत ही निराश है उन्होंने फैसले को निराश करने वाला कहा है। 

यह भी पढ़ें... पीएमओ तक पहुंची जेएनयू बवाल की गूंज, रिपोर्ट तलब

  राम के नाम डॉक्यूमेंट्री

आनंद पटवर्धन ने दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद गिरये जाने से ठीक तीन महीने पहले राम के नाम से एक डॉक्यूमेंट्री बनाई थी। इस डॉक्यूमेंट्री में बाबरी मस्जिद के स्थल पर राम मंदिर बनाने के लिए छेड़ी गई मुहिम और इससे भड़की हिंसा को दिखाया गया था। 

12-11-2019094351Thosewhobrok2

एक मीडिया चैनल में छपी खबर के अनुसार पटवर्धन ने दावा किया है कि बाबरी मस्जिद एक घोषित राष्ट्रीय स्मारक थी। यह केवल मुसलमानों के लिए नहीं बल्कि सभी भारतीयों के लिए थी। 

पटवर्धन ने आगे कहा कि बाबरी मस्जिद को तोड़ने वाले नेता कभी जेल नहीं गए। बल्कि इसके बदले उन्हें सम्मानित किया गया। धर्मनिरपेक्ष भारत तभी बन सकता है जब हम अपने स्वतंत्रता के मूल्यों को फिर से अपनाएं। 
"राम के नाम" डॉक्यूमेंट्री अयोध्या में बाबरी मस्जिद स्थल पर राम मंदिर बनाने के लिए विश्व हिंदू परिषद द्वारा चलाए गए अभियान पर आधारित है। 

Web Title: Those who broke the Babri Masjid never went to jail but were honored: Anand Patwardhan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया