अयोध्या का मामला फिर कोर्ट के दरवाजे पर,जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने दायर की पुनर्विचार याचिका


NP97 02/12/2019 18:56 PM
16 Views

New Delhi. ​​​​​​तकरीबन 150 साल पुराने मामले (अयोध्या) का हल बीते महीने 9 नवंबर को हो गया था। मगर एक बार फिर अयोध्या मामला कोर्ट के दरवाजे पर पहुंच गया है। जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने अयोध्या केस में सुनाए गए फैसले पर सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल की है। जिन्होंने कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल की वह अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्ष के 10 याचिकाकर्ताओं में से एक हैं। याचिका मौलाना सैयद अशद रशीदी की ओर से दायर की गई है। 

Ayodhya case again at court

संविधान के अनुच्छेद 137 के तहत पुनर्विचार की जरूरत है

अयोध्या मामले की पुनर्विचार याचिका इस विवाद में मूल वादकारियों में शामिल एम. सिद्दीक के कानूनी वारिस मौलाना सैयद अशद रशीदी ने दायर की है। पुनर्विचार याचिका में कहा गया है कि फैसला त्रुटिपूर्ण है और इस पर संविधान के अनुच्छेद 137 के तहत पुनर्विचार की जरूरत है। इसके साथ ही पु​नर्विचार याचिका में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले से पक्षकारों में राहत में संतुलन बनाने का प्रयास किया है। वहीं हिंदू पक्षकारों की अवैधताओं को माफ किया गया है और मुस्लिम पक्षकारों को वैकल्पिक रूप में पांच एकड़ भूमि का आवंटन किया गया है। जिसका अनुरोध किसी मुस्लिम पक्षकार ने नहीं किया था।

Ayodhya case again at court

याचिकाकर्ता ने संपूर्ण फैसले को दी चुनौती

कानूनी वारिस मौलाना सैयद अशद रशीदी जमीयत-उलेमा-ए-हिन्द के अध्यक्ष हैं। पुनर्विचार याचिका में उन्होंने कहा है कि इस तथ्य पर गौर किया जाये कि याचिकाकर्ता ने संर्पूण फैसले को चुनौती नही दी है।

 

 

Web Title: Ayodhya case again at court's door, Jamiat Ulema-e-Hind filed a review petition ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया