रबी की बुवाई का समय समाप्त होने के बाद भी नहीं पहुंचेगा नहरों में पानी


NP1181 12/12/2019 17:07:28
31 Views

LUCKNOW.  प्रदेश में रबी की बुवाई का समय 15 नवम्बर से शुरू हो जाता है और एक महीने चलता है। एक महीने का समय बीतने वाला है और अभी तक नहरों की सफाई ही हो रही है। ऐसी स्थिति में नहरों के किनारे के किसान रबी की बुवाई कब ​करेंगे। क्या यह सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने कभी सोचा है। ऐसा लगता है कि इन विभागों में आपस में कोई तालमेल नहीं है। इससे किसानों का नुकसान होता है, क्योंकि किसान पहले खेतों की पलेवा करता है उसके करीब एक सप्ताह बाद बुवाई होती है। अब लखनऊ जिले की नहरों में 20 दिसम्बर से पहले पानी आने की सम्भावना कम है। यदि किसान उसके बाद बुवाई करते हैं तो उनकी फसल को नुकसान होने की सम्भावना अधिक होती है, जो किसान नहरों के सहारे हैं उनकी बुवाई देर से हो पाएगी। जब देर से बुवाई होगी तो पानी अधिक लगाने पड़ेंगे तथा मार्च के तीसरे सप्ताह में तेज हवा के कारण गेहूॅं की फसल कमजोर हो जाती है। 

12-12-2019184059Waterinthec1

किसान शिवपाल का कहना है कि धान की कटाई एक महीने पहले हो चुकी है और ​खेतों में पलेवा का काम तेजी से चल रहा है और जिनके पास अपना सिंचाई का साधन है वे पलेवा करके गेहूॅं की बुवाई या तो कर चुके हैं या फिर कर रहे हैं। उनका कहना है कि किसानों को नहरों से समय पर पानी नहीं मिलता है, क्येांकि अब जब किसान गेहूॅं की बुवाई कर लेगा तब नहरों में पानी आएगा। तब किसान को पानी की आवश्यकता नहीं होगी।

20 दिन नहर में पानी आता है उसके बाद बंद हो जाता है। फिर एक सप्ताह बाद पानी छोड़ा जाता है। तब तक किसान निजी नलकूपों से सिंचाई कर चुका होता है। इस तरह किसान को नहर के पानी से जितना लाभ होना होता है उससे अधिक नुकसान हो जाता है।

12-12-2019184204Waterinthec2
जिला कृषि अधिकारी का कहना है कि रबी की बुवाई मौसम के अनुसार होती है इसके लिए 15 नवम्बर से 15 दिसम्बर का समय सबसे उपयुक्त माना जाता है। 

Web Title: Water in the canals will not reach even after the Rabi sowing time ends ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया