कड़ाके की ठंड में बिना स्वेटर के स्कूल जाने को मजबूर मासूम, शिक्षामंत्री बोले- 25 दिसंबर...


NAZO ALI SHEIKH 14/12/2019 11:18:46
109 Views

Lucknow. देश में बढ़ रही ठंड से सभी आमजन परेशान हैं। वहीं उत्तर प्रदेश में देरी के चलते अब तक स्कूलों के मासूम बच्चों को स्वेटर नहीं मिले। खुद को ठंड से बचाने के लिए मासूमों को तेज बर्फीली हवाओं से बचाने के लिए योगी सरकार से स्वेटर मिलने की आस है, क्योंकि सरकार स्कूल में फ्री यूनिफॉर्म और स्वेटर बांटने की योजना चलाती है। 

14-12-2019112133Innocentforce1

  ठंड से बचने को धूप में पढ़ रहे बच्चे

आलम ये है कि गोंडा जिले के प्राथमिक स्कूल में तो मासूम बच्चों को मैदान में ही बैठा दिया गया, जिससे सिस्टम की नाकामी छिप जाए और स्वेटर की जगह धूप ही उनको ठंड से बचा सके। 

यह भी पढ़ें... कानपुर बंगला घोटाला: CBI ने बीआईसी के रिटायर्ड अफसरों से की पूछताछ

  30 नवंबर तक बंट जाने चाहिए स्वेटर

यूपी सरकार के दावों के अनुसार, यूपी के स्कूलों में 30 नवंबर तक स्वेटर बांटे जाने थे, जो अब तक सभी स्कूलों में नहीं पहुंचे हैं। सरकार को लगता है कि सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले मासूमों को 25 दिसंबर से पहले ठंड नहीं लगती और गरीब परिवार के ये बच्चे दिसंबर की शुरुआत में स्वेटर नहीं पहनते, श्रावस्ती पहुंचे यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने कुछ इसी तरह का बयान दिया है। 

14-12-2019112346Innocentforce2

  25 दिसंबर के पहले बच्चे स्वेटर नहीं पहनते- शिक्षा मंत्री

एक मीडिया चैनल ने जब स्वेटर को लेकर शिक्षा मंत्री से सवाल किया तो उन्होंने कहा, ‘’ 25 दिसंबर के पहले बच्चे दिन में स्वेटर कहां पहनते हैं। इस बार पहले मौसम खराब होने के चलते ठंड आ गई हैं।’’ इस दौरान मंत्री जी खुद काला कोट पहनकर बैठे थे और उनके साथ कार्यक्रम में बैठे बाकी नेताओं ने भी जैकेट पहन रखी थी। सरकार अगले दो दिनों में सभी स्कूलों में स्वेटर बांटने का दावा कर रही है, लेकिन सवाल खड़ा होता है कि उत्तर प्रदेश में मासूमों के नाम पर इतनी लेटलतीफी क्यों?

Web Title: Innocent forced to go to school without a sweater in harsh winter says the education minister worn after December 25 ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया