...जब 13 दिनों में इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान के कर दिए थे टुकड़े, जानें विजय दिवस की पूरी कहानी


NAZO ALI SHEIKH 16/12/2019 15:15:45
115 Views

Lucknow. देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Prime Minister Indira Gandhi) को आयरन लेडी क्यों कहा जाता है इसके पीछे वैसे तो कई कारण हैं लेकिन एक जो सबसे बड़ा कारण है वो है 1971 का युद्ध जब पूर्वी पाकिस्तान (वर्तमान बांग्लादेश) में आर्मी वालों के सितम बढ़ते ही जा रहे थे। महिलाओं-अल्पसंख्यकों पर बर्बरता जारी थी, बांग्लादेश (Bangladesh)  राष्ट्र को अलग करने की मांग बढ़ रही थी।

16-12-2019152159WhenIndiraGa1

भारतीय सीमा की तरफ भाग कर आ रहे शरणार्थियों की संख्या बढ़ती जा रही थी। उसी दौरान जुलाई में अमेरिका के नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर (Security Adviser Henry Kissinger) पाकिस्तान होते हुए भारत की यात्रा पर आए तब अमेरिका खुले आम पाकिस्तान का साथ  दे रहा था। 

मुलाकात के दौरान इंदिरा गांधी ने किसिंजर से बांग्लादेश के लोगों पर पाकिस्तानी आर्मी के जुल्म का जिक्र किया। लेकिन, अमेरिका ने पाकिस्तान की करतूतों पर जैसे आंखे बंद कर रखी थीं। किसी भी आरोप को मानने से ही इनकार कर दिया। 

16-12-2019152255WhenIndiraGa4

  अमेरिका (America) की धमकी

इसके ठीक 4 महीने के बाद भारत और पाकिस्तान दोनों पड़ोसी देश युद्ध के मैदान में आमने-सामने खड़े थे। 3 दिसंबर 1971 को जब पाकिस्तानी एयरफोर्स (Pakistani airforce) ने भारत पर हमलों की शुरुआत कर दी तो भारत ने भी जावाबी कार्रवाई शुरु कर दी। लेकिन उस समय पाकिस्तान के कूटनीतिक दोस्त अमेरिका ने भारत पर ही दबाव बनाना शुरू कर दिया। ये इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) के लिए कठिन परीक्षा का समय था। 

16-12-2019152219WhenIndiraGa2

पाक के खिलाफ भारत की जवाबी कार्रवाई को अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन (US President Richard Nixon) ने अमेरिका का अपमान समझा और पाकिस्तान की मदद के लिए अमेरिकी जहाजी बेड़ा तक भेज दिया। हालांकि, अमेरिकी दबाव के बाद भी अपने फैसले पर अटल इंदिरा ने हार नहीं मानी और पाकिस्तान पर एक्शन के अपने फैसले पर अड़ी रहीं और भारत के अभिन्न मित्र रूस के आक्रामक रवैये ने अमेरिका का ये दांव भी फेल कर दिया।

यह भी पढ़ें... समाजवादी पार्टी ने जारी की 3 जिलों के जिलाध्यक्षों की सूची

  13 दिन चला था युद्ध

3 दिसंबर तो युद्ध शुरू हुआ और 16 दिसंबर को पाकिस्तान को भारतीय सेना ने धूल चटा दी। 13 दिन चले इस युद्ध में इंडियन आर्मी-नेवी और एयरफोर्स ने पाकिस्तान को घुटने के बल लाकर खड़ा कर दिया था। जनरल सैम मानेकशॉ की अगुवाई वाली इंडियन आर्मी के सामने 16 दिसंबर को पाकिस्तान आर्मी के 93000 सैनिकों ने ढ़ाका में सरेंडर कर दिया। पाकिस्तान दो टुकड़ों में बंट गया और एक नए देश बांग्लादेश का जन्म हुआ।

16-12-2019152239WhenIndiraGa3

  इंदिरा गांधी को जाता है श्रेय

48 साल पहले हुए इस युद्ध की सफलता का श्रेय पूरी तरह इंदिरा गांधी, भारतीय सेना और बांग्लादेश की मुक्ति वाहिनी को जाता है। अमेरिका और चीन द्वारा भारी दबाव में भी इंदिरा गांधी जरा भी नहीं डरीं और पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिए। इस अदम्य संकल्प और साहस के कारण इंदिरा गांधी आयरन लेडी कही जाने लगीं।

Web Title: When Indira Gandhi had broken pieces of Pakistan in 13 days, know the full story of Victory Day ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया