झारखंड में मिली हार का असर, जेडीयू ने भाजपा को दिया बड़ा झटका


NP1509 30/12/2019 10:28 AM
484 Views

Patna. झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Election) में मिली हार का असर अब भाजपा (BJP) के नेतृत्व वाली एनडीए (NDA) पर दिखने लगा है। भाजपा के सहयोगी उसे आंख दिखाने लगे हैं। दरअसल, बिहार (Bihar) में भाजपा की सहयोगी जेडीयू (JDU) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने दो टूक कहा है कि प्रदेश में जेडीयू और भाजपा के बीच 50-50 का फॉर्मूला नहीं चलेगा। जेडीयू को बिहार (Bihar) में भाजपा के मुकाबले ज्यादा सीटें मिलनी चाहिए। 

JDU Vice President Prashant Kishore

रिपीट नहीं होगा लोकसभा चुनाव का फॉर्मूला

पटना में जेडीयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने कहा कि लोकसभा चुनाव (Loksabha Election) का फॉर्मूला (Farmula) बिहार विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में रिपीट (Repeat) नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अगर 2010 के विधानसभा चुनाव को देखें, जिसमें जेडीयू और भाजपा एक साथ चुनाव लड़े थे तो सीट बंटवारे का अनुपात 1:1:4 था। 

JDU Vice President Prashant Kishore

प्रशांत किशोर ने कहा कि अगर इस बार इसमें थोड़ा सा भी बदलाव होता है तो ऐसा नहीं हो सकता है कि दोनों पार्टियां बराबर सीटों पर चुनाव लड़े। उन्होंने कहा कि जेडीयू (JDU) बड़ी पार्टी है, इसके लगभग 70 विधायक हैं, जबकि भाजपा के पास लगभग 50 एमएलए हैं, इसके अलावा विधानसभा का चुनाव नीतीश कुमार के चेहरे पर लड़ा जाएगा। 

झारखंड में मिली हार का असर

जेडीयू का यह कदम झारखंड में भाजपा को मिली हार के बाद दबाव की राजनीति (Politics of pressure) के तौर पर देखा जा रहा है। दरअसल, झारखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा को अपनी सहयोगी आजसू से अलग होकर लड़ने का खमियाजा भुगतना पड़ा है। राजनीति के जानकारों की माने तो अगर भाजपा और आजसू साथ चुनाव लड़ती तो झारखंड के नतीजे कुछ अलग हो सकते थे।

यह भी पढ़ें:-...उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने दिया संकेत, सीएए में हो सकता है बदलाव

Web Title: JDU Vice President Prashant Kishore's statement on the seat-sharing formula in Bihar ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया