PFI के समर्थन में उतरी कांग्रेस, कहा- बैन लगाने के लिए सरकार दिखाए सबूत


NP1509 01/01/2020 16:03:10
63 Views

Lucknow. यूपी में हिंसा के बाद प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Goverment) ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर प्रतिबंध लगाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय (Union Ministry of Home Affairs) से सिफ़ारिश की है। जिसको लेकर अब राजनीति (Politics) शुरू हो गयी है। इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस (Congress) के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी (Pramod Tiwari) ने सरकार पर निशाना साधा है। प्रमोद तिवारी ने आरोप लगाया है कि प्रदेश की योगी सरकार अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए PFI पर प्रतिबंध लगाने की बात कर रही है। 

01-01-2020165103Congressleade1

कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी (Congress Leader Pramod Tiwari) ने आगे कहा कि अगर योगी सरकार (Yogi Goverment) के आरोपों में सच्चाई है तो यह इंटेलीजेंस (Intelligence) की बड़ी चूक है। जिसके लिए सरकार को जनता से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा है कि किसी भी प्रदेश की सरकार को पूरा अधिकार है कि अगर उसके पास ठोस इनपुट है तो वह प्रदेश की जनता को समय पर अलर्ट करे और ऐसे संगठनों पर कार्रवाई करे। 

संगठन की गतिविधियों को लेकर साक्ष्य दे केंद्र सरकार

तिवारी ने सवाल कि योगी सरकार (Yogi Goverment) को यह बताना चाहिए कि आखिर कैसे प्रदेश में ऐसे संगठन स्थापित हुए। अगर सरकार पीएफआई (PFI) पर प्रतिबंध लगाना चाहती तो उसे केंद्र सरकार को संगठन की गतिविधियों को लेकर साक्ष्य भी देना चाहिए। जिस पर विचार विमर्श के बाद ही केन्द्र सरकार कोई फैसला ले सकती है। 

01-01-2020165120Congressleade2

बता दें कि यूपी में विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा की जांच कर रही पुलिस (Police) के मुताबिक PFI के लोगों ने सोशल मीडिया (social media) के जरिये लोगों को उकसाने और भड़काने का काम किया है। यूपी में गिरफ्तार किये गये लोग इस संगठन से जुड़े हैं। वहीं, यूपी में इसे बैन करने के लिए प्रदेश सरकार ने केंद्रीय गृहमंत्रालय से सिफ़ारिश की है। 

यह भी पढ़ें:-...यूपी में हिंसा भड़काने में PFI का आया नाम

Web Title: Congress leader Pramod Tiwari's statement in the case of ban on PFI ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया