कानपुर के कमिश्नरी होने पर तीन बार लगा ग्रहण, अब दिख रही संभावना!


NP1357 13/01/2020 14:24:50
56 Views

Lucknow. पिछले तीन दशक में कानपुर शहर (Kanpur City) तीन बार कमिश्नरी होते-होते रह गया। एक बार तो पुलिस कमिश्नर Police Commissioner) की गुपचुप तैनाती भी कर दी गई, लेकिन आइएस लॉबी  (IAS Lobby) के दबाव में शासन ने हर बार की तरह फिर घुटने टेक दिए। नोएडा (Noida) और लखनऊ (Lucknow) के कमिश्नरी होने के बाद अब कानपुर (Kanpur), आगरा (Agra) समेत कई शहरों के कमिश्नरी होने की संभावनाएं प्रबल हो गई हैं। 

13-01-2020142715Threetimesec1

वरिष्ठ आइपीएस अफसर धीरेंद्र नारायण सांभल 80 के दशक में कानपुर (Kanpur) में एसएसपी (SSP) के पद पर तैनात हुए। नब्बे के दशक में वे यहां पर डीआइजी (रेंज) और बाद में आइजी (जोन) भी रहे। डीआइजी (DIG) और आइजी (ID) के पद पर रहते हुए डी.एन. सांभल ने शासन को पत्र लिखकर कानपुर को कमिश्नरी बनाने का प्रस्ताव रखा था। उनकी तरफ से बनाए गए मसौदे में कानपुर (Kanpur) की भौगोलिक स्थितियों, अपराध और अपराध के तरीकों के साथ-साथ क्षेत्रफल का भी पूरा उल्लेख किया गया था।

आईएएस लॉबी के आगे सरकार ने घुटने टेके 

तत्कालीन सरकारों ने डीएन सांभल (D.N. Sambhal) की तरफ से भेजे गए इस प्रस्ताव पर मुहर भी लगा दी। दो बार कानपुर (Kanpur) को कमिश्नरी बनाने की पूरी तैयारी हो गई, लेकिन आइएएस लॉबी (IAS Lobby) के कड़े दबाव की वजह से शासन ने पूरी तरह से घुटने टेक दिए। यही नहीं, नब्बे दशक के आखिरी में कानपुर (Kanpur) को कमिश्नरी बनाने के साथ यहां पर सीनियर आइपीएस अफसर वाइएएन त्रिपाठी (IPS Y.A.N. Tripathi ) की गुपचुप तैनाती भी कर दी गई, लेकिन इसकी भनक कुछ घंटे बाद ही सीनियर आइएएस लॉबी को लग गई। एक बार फिर शासन को आइएएस लॉबी के आगे घुटने टेकना पड़ा और कानपुर कमिश्नरी नहीं बन पाया।

कमिश्नरी से अपराध में आएगी गिरावट

जानकारों के मुताबिक, नोएडा (Noida) और लखनऊ (Lucknow) के कमिश्नरी बनने के बाद अब कानपुर, आगरा समेत चार बड़े शहरों को यूपी की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार जल्द ही ये सौगात दे सकती है। कानपुर शहर (Kanpur City) में अपराध और अपराधियों का बोलबाला है। कानपुर न सिर्फ अपराधियों बल्कि आतंकवादी संगठनों के स्लीपिंग मॉड्यूल्स का भी बड़ा गढ़ है। दर्जनों पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के एजेंट कानपुर में गिरफ्तार हो चुकी हैं। भू-माफिया से लेकर सुपारी किलर तक के गिरोह शहर में सक्रिय हैं। माना जा रहा है कि कानपुर के कमिश्नरी बनते ही अपराधियों और उनके अपराध करने के तरीकों में गिरावट आएगी।

यह भी पढ़ें - 

सुजीत पांडेय लखनऊ तो आलोक सिंह नोएडा के होंगे पहले पुलिस कमिश्नर!

कोहरे का कहर: 20 फीट नीचे सर्विस रोड पर पलटी बस, दो की मौत 12 घायल

Web Title: Three times eclipse occurred as Kanpur commissioner ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया