एनीमिया स्क्रीनिंग प्रोजेक्ट का एप एनीमिया के खिलाफ जंग में अहम उपकरण साबित होगा : प्रो विनय कुमार पाठक


NP863 13/01/2020 18:06:18
28 Views

Lucknow. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि के विश्वेश्वरैया सभागार में जान है तो जहान है (उत्तर प्रदेश में एनीमिया के खिलाफ एक जंग) कार्यक्रम केजीएमयू के संयुक्त तत्वाधान में विवि कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में कुलाधिपति एवं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल बतौर मुख्य अतिथि उपस्थिति रही। साथ ही प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थिति रही।

13-01-2020180903AKTUMEHUAKA1

 केजीएमयू के कुलपति प्रो एमएलबी भट्ट, ईडीआईआई के महानिदेशक प्रो सुनील शुक्ला मंचासीन रहे। कार्यक्रम के दौरान एनीमिया जैसे विकार के सम्बन्ध में जागरूकता पर आधारित एक डाक्यूमेंट्री दिखाई गयी। कार्यक्रम के दौरान कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने एनीमिया स्क्रीनिंग प्रोजेक्ट का एप लांच किया। यह एप पूरे प्रदेश में एनीमिया से ग्रसित महिलाओं का डाटाबेस तैयार करेगा। कुलाधिपति महोदया ने जनसुविधा केंद्र, बैंक एवं डाकघर के भवनों का लोकार्पण किया। साथ ही इंडस्ट्रियल ऑटोमेशन लैब का भी लोकार्पण किया । छात्र-छात्राओं की समस्याओं के क्लिक मात्र से समाधान के लिए कुलाधिपति महोदया ने एआई बेस्ड 'चैटबोट' को लांच किया।  

 
कुलाधिपति एवं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने टीबी से ग्रसित बच्चो फल एवं स्वामी विवेकानन्द जी के जीवन पर आधारित पुस्तकें वितरित की।  विवि के तृतीय श्रेणी कर्मचारी पीके मिश्रा को टीबी के खिलाफ अभियान में सक्रिय भूमिका के लिए सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में विवि के कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक ने सभी का कार्यक्रम में स्वागत किया । प्रो पाठक ने कहा कि  विवि ऑटोमेशन और डिजिटलीकरण के लिए तत्परता से कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में विवि पूर्ण रूप से डिजिटल हो चुका है। प्रो पाठक ने बताया कि  विवि एनीमिया जैसे जटिल रोग के निवारण हेतु कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि विवि के सम्बद्ध संस्थानों ने हाल ही में कम से कम एक गाँव गोद लेकर ग्रामीण अंचलों में तकनीकी विकास के लिए मुहिम शुरू की है ।  
उन्होंने कहा कि एनीमिया स्क्रीनिंग प्रोजेक्ट का यह एप एनीमिया के खिलाफ जंग में अहम् उपकरण साबित होगा। 

इस अवसर पर कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने कहा कि महिलाओं को स्वस्थ बनना जरुरी है। क्योंकि स्त्रियों के कन्धों पर ही परिवार की जिम्मेदारी होती है। उन्होंने कहा एनीमिया जैसे रोगों से लड़ने के लिए आवश्यक है कि महिलाएं भर भेट और पौष्टिक भोजन करें। साथ ही हमें बेटियों के 18 वर्ष एवं बेटों के 21 वर्ष से कम उम्र में विवाह को रोकना चाहिए। यदि कोई ऐसा कर रहा है तो हमारी, समाज की, प्रशासन की जिम्मेदारी है कि बाल विवाह जैसे जघन्य कृत्य को रोकना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिशुओं की शिक्षा गर्भ से ही शुरू होनी चाहिए।  हमें गर्भवती माताओं को अध्यात्मिक, मानवीय मूल्यों आधारित आदि तरह की सूचनाओं पर आधारित साहित्य एवं ऑडियो-विजुअल्स दिखाने चाहिए, जिससे गर्भ में पल रहे शिशुओं पर सकारात्मक ऊर्जा पहुँच सके। उन्होंने कहा आप प्राविधिक विवि से शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। ऐसे में जब हम प्राथमिक विद्यालयों के भवनों के निर्माण की रुपरेखा तैयार करें। तो हमें ध्यान रखना चाहिए कि उसकी भवन की डिजाईन और उसमे उपलब्ध सुविधाओं को बच्चों को ध्यान में रख कर करना चाहिए। .

13-01-2020180917AKTUMEHUAKA2

उन्होंने कहा राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के सम्बन्ध में विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं को तीन से चार गांवों में जाकर लाभार्थियों से मिलकर योजनाओं के कार्यान्वयन की स्थिति पर रिपोर्ट तैयार कर विवि में सब्मिट करनी चाहिए। साथ ही विवि को ऐसी रिपोर्ट्स को केंद्र सरकार और राज्य सरकार को प्रस्तुत करना चाहिए। इस तरह की पहल से योजनाओं के कार्यान्वयन में पारदर्शिता बढ़ेगी। 
कार्यक्रम के दौरान प्राविधिक शिक्षा मंत्री प्राविधिक शिक्षा कमल रानी ने कहा कि जान है तो ज़हान है कार्यक्रम बहुत ही सराहनीय कार्य है। उन्होंने कहा कि  राज्यपाल महोदय के द्वारा बेटियों के स्वस्थ जीवन के लिए शुरू की गयी यह मुहिम सकारात्मक बदलावों की प्रणेता बनेगी।  उन्होंने कहा कि प्राविधिक विवि लगातार सकारात्मक प्रगति करने के साथ ही सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहा है।  उन्होंने कहा कि  एनीमिया के अतिरिक्त विवि राज्यपाल महोदय के मार्गदर्शन में टीबी से से पीडित बच्चों को गोद लेकर उनका इलाज और शिक्षा का  कार्य किया जा रहा है।

कार्यक्रम के दौरान विवि ने उद्यमिता विकास, इनोवेशन एवं बेस्ट प्रेक्टिसेस के आदान-प्रदान के लिए उद्यमिता विकास संस्थान (ईडीआईआई) अहमदाबाद  और गुजरात प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (जीटीयू) अहमदाबाद से एमओयू हस्ताक्षरित किया। अंत में विवि कुलसचिव नन्द लाल सिंह ने सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया।  इस अवसर पर प्रतिकुलपति प्रो विनीत कंसल, वित्त अधिकारी जीपी सिंह, आईईटीके निदेशक एचके पालीवाल, डीन एफओए प्रो वंदना सहगल, यूपीआईडी के निदेशक प्रो वीरेंद्र पाठक, सीएएस के निदेशक प्रो मनीष गौड़, समस्त डीन, शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारी और 700 से अधिक विद्यार्थी उपस्थित रहे। 

13-01-2020180927AKTUMEHUAKA3

Web Title: AKTU ME HUA KARYAKRAM KA AYOJAN ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया