निर्भया केस: सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की क्‍यूरेटिव याचिका खारिज की, अब सिर्फ एक रास्ता बचा


NP1357 14/01/2020 15:37 PM
40 Views

New Delhi. निर्भया केस (Nirbhaya Case) के दोषियों विनय शर्मा (Vinay Sharma) और मुकेश सिंह (Mukesh Sharma) की क्‍यूरेटिव पिटीशन (Curative petition) को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने खारिज कर दिया है। बता दें कि दिल्‍ली की पटियाला हाउस कोर्ट (Patyala House Court) की ओर ने दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट सुनाया था। दोषियों को 22 जनवरी को तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में सुबह सात बजे फांसी होनी है। इस फैसले के बाद दोषियों ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में क्‍यूरेटिव पिटीशन (Curative petition) दाखिल की थी।

nirbhaya case supreme court ne yachika kharij ki

निर्भया के दोषियों में विनय शर्मा (Vinay Sharma) और मुकेश सिंह (Mukesh Sharma) की क्‍यूरेटिव पिटीशन (Curative petition) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के जज एनवी रमन्‍ना, जस्टिस आरएफ नारीमन, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने सुनवाई करते हुए खारिज कर दिया है। 

याचिका में दिया था युवावस्था का हवाला

क्‍यूरेटिव पिटीशन (Curative petition) में दोषी विनय शर्मा (Vinay Sharma) ने अपनी युवावस्‍था का हवाला दिया था। याचिका में कहा था कोर्ट ने इस पहलू को त्रुटिवश अस्‍वीकार कर दिया है। याचिकाकर्ता के सामाजिक और आर्थिक हालातों, बीमार माता-पिता सहित परिवार के आश्रितों और जेल में उसके अच्‍छे आचरण और सुधार की गुंजाइश के बिंदुओं पर पर्याप्‍त विचार नहीं किया गया है, जिस कारण से उसके साथ न्‍याय नहीं हुआ है। 

दया याचिका के लिए बचा रास्ता

क्‍यूरेटिव पिटीशन (Curative petition) खारिज होने के बाद दोषियों के सामने अब राष्‍ट्रपति के पास दया याचिका दायर करने का प्रावधान है। दया याचिका पर गृह मंत्रालय अपनी सिफारिश राष्‍ट्रपति को भेजता है। राष्‍ट्रपति यदि दया याचिका खारिज कर दें तो उसके बाद मुजरिम को फांसी पर लटकाने रास्‍ता साफ हो जाता है।

यह भी पढ़ें- 

जम्मू कश्मीर: बर्फीले तूफान में फंसकर तीन जवान शहीद

CAA पर बोले माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला, कहा- भारत में जो हो रहा है बेहद दुखद...

 

Web Title: nirbhaya case supreme court ne yachika kharij ki ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया