आम आदमी को बड़ा झटका, खुदरा के बाद अब थोक महंगाई दर में भी बढ़ोतरी


NAZO ALI SHEIKH 14/01/2020 16:51:03
27 Views

खास बातें-

- मुद्रास्फीति के आधिकारिक आंकड़े जारी हुए
- खुदरा महंगाई दर भी बढ़ी

New Delhi. पिछले कुछ महीनों से देश में बढ़ रही लगातार महंगाई, उस पर आर्थिक मंदी ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है। इस बीच थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति (Inflatio) के आधिकारिक आंकड़े मंगलवार को जारी किए गए। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, थोक मूल्य (wholesale price) पर आधारित मुद्रास्फीति दिसंबर 2019 में 2.59 प्रतिशत पर आ गई है। इससे पहले पिछले महीने नवंबर में यह 0.58 प्रतिशत थी। अक्टूबर में यह 0.16 प्रतिशत थी, सितंबर में 0.33 प्रतिशत और अगस्त में यह 1.17 प्रतिशत थी। यानी लगातार दो महीनों से इसमें इजाफा हो रहा है। 

14-01-2020170617Abigblowto3

दिसंबर 2018 में यह आंकड़ा 3.46 प्रतिशत था। दिसंबर माह में खुदरा महंगाई दर ने पिछले चार सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। साथ ही अर्थव्यस्था में चल सुस्ती का असर रोजगार क्षेत्र पर भी पड़ने वाला है। एसबीआई (SBI) ने सोमवार को अर्थव्यवस्था पर जारी रिपोर्ट इकोरैप में अनुमान जताया था कि आर्थिक सुस्ती की वजह से चालू वित्त वर्ष में करीब 16 लाख रोजगार (employment) कम आएंगे। इसलिए महंगाई के मोर्चे पर यह एक बड़ा झटका है। 

  ये रही महंगाई दर (inflation rate) 

दिसंबर में खाद्य वस्तुओं की थोक महंगाई दर 13.24 प्रतिशत रही। नवंबर में यह 11 प्रतिशत थी। प्याज की महंगाई दर (onion inflation) 455.8 प्रतिशत रही, जो नवंबर में 172.3 प्रतिशत थी। दालों की बात करें, तो यह 13.11 प्रतिशत रही, जो नवंबर में ज्यादा यानी 16.59 प्रतिशत थी। गैर-खाद्य वस्तुओं की थोक महंगाई दर 1.93 प्रतिशत से बढ़कर 7.72 प्रतिशत पर आ गई। वहीं मैन्युफैक्चरिंग उत्पादों की बात करें तो इसकी थोक महंगाई दर -0.25 प्रतिशत रही। 

  खुदरा महंगाई दर (onion inflation rate) का चार साल का रिकॉर्ड टूटा

दिसंबर महीने में प्याज, (onion) टमाटर (tomato) सहित खद्य तेलों की महंगाई ने खुदरा महंगाई दर के पिछले चार सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। दिसंबर में खुदरा महंगाई (retail inflation) दर 7.35 प्रतिशत रही थी। यह भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुमान (दो से छह फीसदी) से भी ज्यादा पहुंच गई। हालांकि कोर महंगाई दर अभी 3.7 फीसदी है, जो पिछले साल के मुकाबले थोड़ी ज्यादा है। इससे पहले जुलाई 2016 में यह सर्वाधिक रही थी। 

 

 अक्टूबर-नवंबर में इतनी थी महंगाई दर

2019 अक्टूबर में जहां खुदरा महंगाई दर 4.62 प्रतिशत रही थी, वहीं नवंबर में यह बढ़कर 5.54 प्रतिशत तक पहुंच गई थी। पिछले दो महीने में प्याज की कीमतें भी 50 रुपये से बढ़कर 160 रुपये तक पहुंच गई थी हालांकि अब प्याज के दामों कुछ राहत है। 

Web Title: A big blow to the common man, after retail, wholesale inflation also increases ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया