National Youth festival 2020 : खान पान पर थोड़ा सा ध्यान आपको रख सकता है हमेशा स्वस्थ्य - ट्विंकल कंसल


NP863 15/01/2020 15:52:21
52 Views

15-01-2020163102NationalYouth1

Lucknow. राजधानी लखनऊ में आयोजित हो रहे 23वें राष्ट्रीय युवा उत्सव-2020 के चौथे दिन विवेकानन्द हॉल में युवाओं ने स्पेस से लेकर स्वंय के खाना पान और अनुशासन तक के गुर सीखें। इस दौरान देश के विभिन्न राज्यों से राष्ट्रीय सेवा योजना के हजारों युवाओं ने 'सुविचार एवं राष्ट्रीय युवा समागम' सत्र में प्रतिभाग किया। इस सत्र में डॉ आर के विश्वजीत सिंह ने नशा विरोधी अभियान को लेकर अपना वक्तव्य रखा और युवाओं को जागरुक किया। इसी के साथ इसरो वैज्ञानिक ऋतु करिधाल ने स्पेस साइंस और ट्विंकल कंसल ने युवाओं को स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर जागरुक किया। 

15-01-2020163119NationalYouth2
चौथे दिन प्रथम सत्र में बतौर मुख्य अतिथि सम्मिलित हुए डॉ आर के विश्वजीत सिंह ने युवाओं को नशा विरोधी अभियान को लेकर जागरुक करते हुए बताया कि किस तरह मणिपुर में 2003 से हुई शुरुआत  के बाद अभी तक काफी हद तक नशे से निजात मिल चुकी है। इसके लिए उन्होंने ड्रग एडिक्ट हो चुके युवाओं को बॉडी बिल्डिंग के गुर सिखाए। इसी के साथ अभी तक इस अभियान के तहत 114 जिम खोले जा चुके हैं। डॉ विश्वजीत ने बताया कि मणिपुर के लोग काफी शराब पीते थे इसे रोकने के लिए भी एक संस्था ने काम करना शुरु किया जो रात में जाकर लोगों को जागरुक करती है। संस्था के लोग रातभर जागकर उन जगहों पर पहुंचते हैं जहां लोग शराब पीते हैं और उन्हें रोकते हैं। विश्वजीत ने नशे के खिलाफ इस अभियान की शुरुआत 2003 में पहला जिम खोलकर की थी इसके बाद उन्हें उसी साल सचिन तेंदुलकर से सम्मानित होने का मौका भी मिला था। यह जिम की पहुंच सिर्फ नशा के खिलाफ अभियान तक ही न पहुंचकर मणिपुर में ब्लाइंड स्कूल तक भी पहुंच चुकी है। अब ब्लाइंड स्कूल के बच्चे भी जिम में जाकर बॉडी बिल्डिंग करते हैं। 

15-01-2020163134NationalYouth3
कार्यक्रम के दूसरे सत्र में सुप्रसिद्ध इसरो वैज्ञानिक ऋतु करिधाल ने युवाओं को बताया कि वह किस तरह स्पेस साइंस की दुनिया में प्रयास कर मानव जीवन को सुविधाएं दे सकते हैं। उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि जीपीएस के आने के बाद मानव जीवन बहुत आसान हो गया है। आज उसे कहीं भी आने जाने के लिए कोई समस्या नहीं होती। ऋतु करिधाल ने बताया कि 1975 में पहले सेटेलाइट आर्यभट्ट के लांच होने के बाद से ही भारत स्पेस साइंस में निरंतर नए कीर्तिमान रच रहा है। इसके बाद चंद्रयान-1 ने भी  निर्णायक तौर पर चंद्रमा पर पानी के निशान खोजे, जो इससे पहले कभी नहीं किया गया था। 

15-01-2020163148NationalYouth4
कार्यक्रम के तीसरे सत्र में ट्विंकल कंसल ने युवाओं को हेल्थ के प्रति जागरुक किया। उन्होंने कहा कि आज आपके पास सारी जानकारी का भंडार गूगल है। लेकिन यही आपके लिए अभिशाप बन रहा है। आज आप खुद की बात नहीं सुन रहें और सभी चीजों के लिए गूगल पर निर्भर हैं। अगर आपको खाना भी खाना होता है या यहां तक दवाई के लिए भी आप खुद ही गूगल से जवाब ले लेते हो। यह भी जानने का प्रयास नहीं करते की इससे क्या नुकसान होगा। इसलिए आप सभी अपने मन की बातों को सुनो। युवाओं को आगाह करते हुए उन्होंने कहा कि आप बम का गोला खुद ही अपने हाथ में लेकर घूम रहे हो जिस पर एक नोटिफिकेशन आते ही आप सारा कुछ छोड़कर यह खोजने में व्यस्त हो जाते हो कि हुआ क्या है। आजकल के युवाओं की प्रमुख समस्या है कि उन्हें नींद नहीं आती और इसका कारण है कि शुरुआत में तो वह खुद 12-1 बजे तक जगते हैं फिर बाद में वह इससे ग्रसित हो जाते। फोन लगातार उन्हें नुकसान पहुंचाता है लिहाजा आप तीन समय फोन का इस्तेमाल बिल्कुल न करें। सोने से एक घंटा पहले, खाना खाने के वक्त और किसी दूसरे से बात करते वक्त फोन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 
युवाओं को समझाते हुए ट्विंकल ने यह भी बताया कि आजकल युवा कई तरह की बीमारियों से ग्रसित हैं जिसमें थॉयराइड और डॉयबिटीज प्रमुख हैं और इसकी वजह सिर्फ और सिर्फ बिगड़ा खानपान है। आजकल रोजाना फल का सेवन करने वालों की संख्या न के बराबर है। फास्ट फूड पर निर्भर रहने वाला आज का युवा जरा सी समस्या पर भी डॉक्टर के पास पहुंच जाता है औऱ दवा खाना शुरु कर देता है फिर उसका आदी हो जाता। उसका ध्यान कभी भी समस्या की मूल जड़ पर नहीं जाता। युवाओं में आज सिरदर्द की समस्या अक्सर रहती है जो सिर्फ दिन में ज्यादा पानी पीने और सही खाना खाने से दूर हो सकती है लेकिन उसके लिए भी वह कई दवाईयों को खाता है।
कार्यक्रम के चौथे सत्र में डॉ. भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय आगरा के कुलपति डॉ अरविंद दीक्षित ने युवाओं से संवाद करते हुए बताया कि राष्ट्रीय युवा योजना का गीत 'स्वंय सजे वसुंधरा संवार दें' अगर आप सिर्फ इसको ही जीवन में उतरा लें तो फिर आपको किसी अन्य मार्गदर्शन की जरूरत बहुत ही कम पड़ेगी। आज पूरा विश्व अर्थ को कैसे बचाएं इस समस्या से जूझ रहा है लेकिन आप अपने निरंतर प्रयत्न से उसमें योगदान दे सकते हैं। स्वामी विवेकानंद हमारे मार्गदर्शक है जो स्वंय परिवार का भाव लेकर आगे चले और सभी का उन्होंने राह सुझाई। 

15-01-2020163211NationalYouth5

युवाओं ने जमकर पूछें सवाल 
प्रथम सत्र में ही छत्तीगढ़ से आए युवक ने जब सवाल पूछा के भारत में होने वाली परिवारिक कलहों का अधिकतर कारण नशा है इसे कैसे रोका जा सकता है? तो विश्वजीत ने बताया कि इसे रोकने का कारण सिर्फ आध्यात्मिकता है। उससे ही हम नशे को पनपने से पहले ही रोक सकते हैं। नशा त्यागने के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति होना बहुत ही जरूरी है। बिना उसके कुछ भी नहीं हो सकता है। पंजाब से आए छात्र ने उनसे पूछा कि हम लोग अभी युवा हैं और हमारी आय भी नहीं है तो हम किस तरह नशे के कारोबार को फैलने से रोकें और युवाओं को जागरुक करें तो डॉ विश्वजीत ने कहा कि आप शुरुआत में थोड़ा व्यय करके ही जिम की शुरुआत कर सकते हैं। फिर सालाना उसमें वृद्धि कर सकते हैं। महाराष्ट्र से आए वैभव को जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि वास्तव में जो भी युवक शराब छोड़ना चाहता है उसके लिए सबसे बेहतर उपाय नींबू पानी है। रोजाना शाम में 2 ग्लास नीबूं पानी पीने से आप 10 दिनों में उसका असर देख सकेंगे। 
कार्यक्रम के दूसरे सत्र में कई युवाओं ने इसरो में काम करने की रुचि दिखाते हुए ऋतु करिधाल से पूछा की वह किस तरह इसरो तक पहुंच अपना योगदान दे सकते हैं। इसी कड़ी राजस्थान की करनवीर ने उनसे सवाल किया कि उन्होंने मिशन मंगल मूवी देखा है और उन्होंने देखा कि किस तरह मिशन की शुरुआत में कोई भी साथ आने को तैयार नहीं होता और बाद में सभी आगे बढ़ते हैं। ऐसे ही वह भी जब कुछ करना चाहती है तो उनका साथ कोई नहीं देता। करनवीर का सपना है कि वह मिशन चंद्रयान 2 को खुद कम्पलीट करें। उनका सवाल था कि वह किस तरह इसरो पहुंच सकती है, जिस पर ऋतु करिधाल ने बताया कि आप अपनी पढ़ाई पूरी कीजिए फिर समय समय पर इसरो की ओर से वेकेंसी निकलती रहती हैं जहां आप अप्लाई कर टेस्ट आदि क्वालीफाई कर आगे आ सकती हैं। 
कार्यक्रम के तीसरे सत्र में जम्मू कश्मीर से आए छात्र विश्वप्रीत ने ट्वींकल से सवाल किया कि वह बाहर रहते हैं और खानपान बाहर ही होता है तो वह किस तरह खुद को स्वस्थ्य रख सकते हैं? इस पर ट्विंकल ने जवाब दिया कि आप रोजाना एक फल, सलाद और दही को भोजन में शामिल करके खुद को स्वस्थ्य रख सकते हैं। इसी के साथ आप जो भी खाना खाए उसे पूरी तरह से चबाकर खाएं। 

 

15-01-2020163327NationalYouth6

Web Title: National Youth festival 2020 in indira gandhi pratisthan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया