गोरों को कांग्रेस पार्टी ने अपना संस्कार माना : केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी


NP1509 19/01/2020 11:45 AM
39 Views

Varanasi. सीएए (CAA) को लेकर वाराणसी (Varanasi) के संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय (Sampurnanand Sanskrit University) में शनिवार को जनसभा का आयोजन किया गया। जिसमें केंद्रीय मंत्री (Union Minister) स्मृति ईरानी (Smriti Irani) बतौर मुख्य अतिथि हिस्सा लेने पहुंची। इस दौरान स्मृति ईरान (Smriti Irani) ने जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जब अंग्रेज देश का बंटवारा कर रहे थे, तब वह एक ही बिन्‍दु लेकर चले और अंग्रेजों ने हिंदुस्तान (Hindustan) को खत्म करने के लिए विभाजन धर्म के आधार पर किया। गोरों की इस सीख को कांग्रेस पार्टी ने अपना संस्कार मान लिया। 

Smriti Irani said that the Congress party considered the British as its rite

केंद्रीय मंत्री (Union Minister) स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने आगे कहा कि आज जो लोग संविधान (Constitution) की दुहाई देते हैं, उन्हें 72 साल बाद भी इस बात का जवाब नहीं सूझता कि जब धर्म के आधार पर देश का बंटवारा हो रहा था तो कांग्रेस (Congress) ने उसे क्यों स्वीकार किया था? क्या कोई अपनी मां के बंटवारे की बात स्वीकार कर सकता है?

कांग्रेस (Congress) पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश का बंटवारा राष्ट्रहित में नहीं परिवार हित में स्वीकार किया था। उन्हें परिवार के एक सदस्य को नेता प्रधानमंत्री बनाना था। ईरानी ने कहा कि साल 1990 में पाकिस्तान (Pakistan) के इशारे पर काला इतिहास हमारे देश का अंग बन गया। 

महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के कथन का हवाला देते हुए स्मृति ने कहा कि जब बंटवारा हुआ तो गांधीजी चाहते थे कि जो हिन्‍दू परिवार पाकिस्तान (Pakistan) में छूट रहे हैं, उनका संरक्षण हो। उन्होंने कहा कि बापू के इस कथन को नरेंद्र दामोदरदास मोदी ने न सिर्फ स्वीकार किया, बल्कि साकार भी किया।

यह भी पढ़ें:-...महाराष्ट्र : सीएम उद्धव ठाकरे के खिलाफ शिरडी बंद, सड़कों पर सन्नाटा

Web Title: Smriti Irani said that the Congress party considered the British as its rite ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया