हरदोई रोड के "वरदानी बाबा" हनुमान मंदिर का है यह विशेष महत्व...


NP1550 19/01/2020 16:02:26
247 Views

Lucknow. हिंदू धर्म में सप्ताह के हर दिन किसी न किसी भगवान की पूजा का विशेष महत्व है। इसी क्रम में अगर मंगलवार की बात करें तो श्री राम चंद्र के परम भक्त हनुमान जी को उनके भक्त मनोकामना पूर्ण करने वाले भगवान के रूप में पूजते हैं। हनुमान जी के दर्शन मात्र से ही सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। शास्त्रों के मुताबिक, हनुमान जी को मंगल ग्रह का नियंत्रक भी कहा जाता है। 

19-01-2020160823Detailsabout1

कहते हैं कि 11 मंगलवार का उपवास और 100 बार हनुमान चालीसा का पाठ करने से सभी कर्जों से मुक्त हुआ जा सकता है और इंसान की सारी मनोकामनाएं भी पूरी हो जाती हैं। इसी क्रम में आज आपको बालागंज निकट टीवी टावर हरदोई रोड स्थित श्री वरदानी हनुमान मंदिर के बारे में बताएंगे, जो भक्तों की आस्था का प्रमुख केंद्र है।

यहां बाल हनुमान की मूर्ति स्थापित है, जिसे "वरदानी बाबा" के नाम से पूजा जाता है। बाल हनुमान की मूर्ति की स्थापना 28 जनवरी 1974 को बसंत पंचमी के दिन वशिष्ठ कुंड, गोकुल भवन, आयोध्या के प्रसिद्ध संत श्री 1008 परमहंस श्री राम मंगल दास महाराज ने की थी। 

19-01-2020160939Detailsabout2

इस लिए हर साल बसंत पंचमी के दिन लाखों श्रद्धालु मंदिर की स्थापना जयंती के दिन एकत्रित होते हैं। मंदिर के प्रधान पुजारी रामजी बताते हैं कि ज्येष्ठ मास के हर मंगलवार को विशाल भंडारे का आयोजन होता है। इसके साथ ही हर मंगलवार को सुंदरकांड का पाठ होता है, जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित होकर बाबा का आशीर्वाद लेते हैं। इस मंदिर की स्थापना का किस्सा भी बहुत रोचक है।

कहा जाता है कि राम मंगल दास जी महाराज जब इस जगह से गुजरे तो हनुमान जी ने उनके सपने में आकर कहा कि यह स्थान उन्हें बहुत प्रिय है और वह यहां बाल रूप में विराजमान होना चाहते हैं। इसके बाद मंगल दास जी विधिवत प्राण प्रतिष्ठा करके अपने शिष्य को पूजा का दायित्व देकर चले गए।  

Web Title: Details about the famous Vardani Baba Hanuman Temple on Hardoi Road ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया