पुलिस अभिरक्षा में युवक ने पी ली डाई़, हालत गंभीर


D. K. SHUKLA 27/01/2020 23:12:50
64 Views

. जिले का चर्चित माखी थाना एक बार फिर सुर्खियों में आया!
. गंभीर हालत में जिला अस्पताल से कानपुर हुआ रेफर

Unnao. प्रदेश से लेकर देश भर में चर्चा का केंद्र रह चुका माखी थाना सोमवार एक बार फिर सुर्खियों में आ गया। हुआ दरअसल यूं कि अपहरण और छेड़छाड़ के पुलिस अभिरक्षा में डाई पी ली। इस मामले की सूचना से महकमें हड़कंप मच गया है। आनन फानन थाना पुलिस उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंची जहां से उसे कानपुर हैलट ​रेफर कर दिया गया है। चर्चा है कि युवक ने थाने के लाकअप के अंदर जहरीला पदार्थ निगला है हलांकि पुलिस इस पूरे मामले में अपना बचाव करती नजर आ रही है। पुलिस का कहना है कि युवक को तलाशी लेने के बाद मेडिकल के लिए जिला अस्पताल भेजा गया था जहां रास्तें में उसने यह कृत्य किया। मामला चाहे जो भी हो लेकिन इस प्रकरण ने एक बार फिर माखाी थाने को सुर्खियों में ला दिया है। 

27-01-2020231827Youthdrankdy1
 

मिली जानकारी के मुताबिक माखी थाना क्षेत्र के मेथी टीकुर का रहने वाला रसीद (25) उर्फ कोनई पुत्र बकरीदी पर धारा 366, 363 के तहत मामला दर्ज था। पुलिस ने युवती को बरामद करने के बाद उसका मजिस्ट्रेट के सामने 164 के तहत बयान कराया था। जिसमें युवती ने रसीद पर जबरन दुष्कर्म का आरोप लगाया था। इसके बाद पुलिस ने बीते दिन आरोपी युवक को गिरफ्तार किया था। चूंकि युवती एससीएसटी बिरादरी से संबंध रखती थी लिहाजा पुलिस उस पर धारा 3276 और एससीएसटी एक्ट तामील करते हुए जेल भेजने की तैयारी में थी। सोमवार को पुलिस की तैयारी पर उसी के नुमाइंदों की गैर जिम्मेदाराना हरकत भारी पड़ गयी। युवक ने पुलिस अभिरक्षा में डाई पी ली जिससे उसकी हालत बिगड़ गयी। आनन फानन उसे जिला अस्पताल लाया गया जहां से उसे गंभीर हालत के चलते कानपुर ​रेफर कर दिया गया। 

27-01-2020232025Youthdrankdy3
 

चर्चा है कि युवक ने पुलिस अभिरक्षा के दौरान लाकअप के अंदर डाई पी है हलांकि पुलिस अपना दामन बचाने के लिए इसे सिरे से नकार रही है। थाना पुलिस का कहना है कि जामा तलाशी लेकर उसे एक प्राइवेट बस से जिला अस्पताल भेजा जा रहा था जहां रास्ते में उसने डाई या ​कोई जहरीला पदार्थ निगल लिया। 
हकीकत क्या है यह तो जांच का विषय है लेकिन इस प्रकरण ने माखी थाने को एक बार फिर से सुर्खियों में ला दिया है। पुलिस अधीक्षक विक्रांतवीर ने मामले को गंभीरता से लेते हुए क्षेत्राधिकारी नगर को जांच सौंपी है। 
  पुलिस की कहानी में छेद ही छेद
जिस बड़े प्रकरण में माखी थाना पुलिस अपना दामन बचाने की फिराक में गलत बयानबाजी कर रही है वह पूरा मामला पुलिस की कार्यशैली को कटघरें में खड़ा करने के लिए पर्याप्त है। वर्तमान में जो हालात चल रहे है ऐसे महिलाओं से संबंधित मामलों में विशेष तौर से सर्तकता बरतने के निर्देश है। ऐसे में 366, 363, 376 के अलावा एससीएसटी जैसे संगीन मामलों के आरोपी की इस तरह पब्लिक ट्रांसपोर्ट से भेजना कितना जायज है?
  आखिर कैसे पुलिस अभिरक्षा में युवक तक कैसे पहुंचा जहरीला पदार्थ
इस पूरे मामले में अपना दामन बचाने के लिए पुलिस जो भी कहानी गढ रही हो लेकिन सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि पुलिस अभिरक्षा में आरोपी तक जहरीला पदार्थ आखिर पहुंचा कैसे। हम यह नहीं कहते कि उसने लाकअप के अंदर डाई पी या रास्ते में लेकिन इस बात का जवाब कौन देगा कि आखिर जो व्यक्ति पुलिस की अभिरक्षा में लाया जा रहा था उस तक ऐसी सामग्री पहुंची कैंसे? 
  फिर फंसेगी कोई पतली गर्दन
पुलिस अभिरक्षा में आरोपी के जहरीला पदार्थ निगलने जैसे संजीदा मामले में बड़ी कुर्सियों पर बैठने वाले को अभयदान देने की तैयारी पुलिस के बयानों से परिलिक्षित होने लगी है। नतीजा यह होगा कि एनकेन प्रकरेण कार्रवाई की गाज उन सिपाहियों पर गिरनी तय है जिनके कंधों पर प्राइवेट से संगीन मामलों ​के आरोपी को जिला अस्पताल पहुंचाने की जिम्मेदारी थी। 

यह भी पढ़ें...कलयुगी बेटे ने अपनी मां को उतारा मौत के घाट, आरोपी गिरफ्तार

 

 

 

 

Web Title: Youth drank dye in police custody, condition critical ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया