डेडली अंकल के चंगुल से 'आपरेशन मासूम' ने बचाई जान


D. K. SHUKLA 31/01/2020 12:16:36
85 Views

. शातिर ने बच्ची के जन्मदिन के बहाने 25 बच्चों को बना लिया था बंधक
. लखनऊ से बुलाने पड़े एटीएस के कमांडो, रात 1 बजे तक चला ड्रामा
. आरोपी को ढेर कर बच्चों को कराया गया मुक्त 

Kanpur. फर्रूखाबाद में एक सिरफिरे अपराधी ने कुछ ऐसा किया जिले नहीं पूरे प्रदेश के आला अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए। अपनी बेटी के जन्मदिन के बहाने आरोपी ने गांव के 25 बच्चों को बुलाकर बंधक बना लिया। तकरीबन 10 घंटे बाद पुलिस ने आरोपी को ढेर कर बच्चों को मुक्त कराया। यह हाईवोल्टेज ड्रामा रात के 1 बजे तक चलता रहा। इस घटना में आरोपी की पत्नी की भी मौत हो गयी है। 

31-01-2020122253OperationInno1

मामला फर्रूखाबाद जिले के मोहम्मदाबाद कोतवाली क्षेत्र के करथिया गांव का है, जहां सुभाष बाथम नाम के शातिर अपराधी ने कुछ ऐसा किया जिसे पूरे प्रदेश को हिला कर रख दिया। गुरूवार उसने अपनी बेटी के जन्मदिन के बहाने गांव के बच्चों को बुला कर कमरे में बंद कर लिया। उसके चंगुल में गांव के कुल 25 बच्चे फंसे थे। आई मोहित अग्रवाल के मुताबिक सुभाष की पत्नी रूबी जब घर से भागने लगी तो उसने उस पर भी फायर झोंक दिया।

रूबी को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया गया हालांकि उसने दम तोड़ दिया। सबसे खास बात यह रही इस प्रकरण की सूचना से राजधानी लखनऊ का प्रशासनिक अमला भी परेशान रहा। स्वयं प्रदेश के मुख्यमंत्री इस आपरेशन पर नजर बनाए रहे। इस बदमाश के चंगुल में फंसे बच्चों को निकालने के 'आपरेशन मासूम' चलाया गया। रात तकरीबन 1 बजे यह आपरेशन उस समय सफल हुआ जब आरोपी को ढेर करने में पुलिस ने सफलता हासिल की। 

31-01-2020122415OperationInno2

बच्चों के बंधक बनाए जाने का खुलासा उस समय हुआ जब पड़ोस में रहने वाली बबली ने काफी देर हो जाने पर अपने बच्चों को बुलाने के लिए उसका दरवाजा खटखटाया। बबली ने घर लौट कर परिजनों को जानकारी दी। बाद इसके सूचना पर पहुंची 112 नंबर गाड़ी के जवानों ने भी दरवाजा खुलवाने के तमाम प्रयास किए लेकिन असफल रहे। 112 नंबर की सूचना पर जब कोतवाली इंस्पेक्टर राकेश कुमार ने मौके पर पहुंच कर दरवाजा खुलवाने का प्रयास ​किया तो आरोपी ने गोली चलाना शुरू कर दिया।

आरोपी सुभाष ने अंदर से हथगोला भी फेंका जिसमें इंस्पेक्टर, पीआरवी के दीवान जयवीर और सिपाही अनिल घायल हो गए। नतीजे में पुलिस को पांव पीछे खींचने पड़े। क्षेत्रीय विधायक नागेंद्र सिंह भी अजीबो गरीब घटना की जानकारी मिलने पर गांव पहुंचे। उनके लाउड स्पीकर पर समझाने का प्रयास करने पर आरोपी ने फिर फायर झोंक दिया। नतीजे में विधायक भी बैक फुट हो गए। आरोपी ​की​ गिरफ्त में जहां बच्चे दहशतजदा थे वहीं दूसरी और इन बच्चों के परिजनों का भी बुरा हाल था।

31-01-2020122507OperationInno3 

गांव वालों से बदला लेने के लिए रची साजिश

इस बड़ी घटना का मुख्य सूत्राधार सुभाष वर्ष 2001 में गांव के मेघनाथ बाथम की गोली मारकर हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा भोग रहा था लेकिन इन दिनों वह हाईकोर्ट से जमानत पर चल रहा है। तीन माह पूर्व वह चोरी में पकड़ गया था। डेढ़ माह पूर्व वह जेल से छूटकर घर आया था। पुलिस से पकड़वाने की रंजिश में गांववालों को सबक सिखाने के लिए उसने यह पूरा ड्रामा किया।

इन बच्चों को बना रखा था बंधक

आरती, सोनी, रोशनी, अरुण, अंजली, लवी, भानु, खुशी, मुस्कान, आदित्य, विनीत, पायल, प्रिंटर, प्रशांत, नैनसी, आकाश, लक्ष्मी, अक्षय, गौरी, सोनम, लवकुमार, शबनम, गंगा, जुमना और कृष्णा शामिल है।

पूरे मामले पर थी सीएम योगी आदित्यनाथ की नजर

फर्रुखाबाद की इस घटना पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने निगाह बना रखी थी। उन्होंने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता कर बच्चों को जल्द से जल्द मुक्त कराने के निर्देश दिए थे। सीएम के निर्देश के बाद लखनऊ से आतंकवाद निरोधी दस्ते के कमांडों भी घटनास्थल के लिए रवाना हो चुके थे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसे आपरेशन मासूम का नाम दिया। 

यह भी पढ़ें...उन्नाव: यहां भी दिखा शाहीन बाग प्रोटेस्ट का असर

Web Title: Operation Innocent saves lives from Deadly Uncle's clutches ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया