TET में फेल होने वाले 7000 शिक्षकों का वेतन बंद, किया जा सकता है बर्खास्त


NAZO ALI SHEIKH 10/02/2020 16:50:48
36 Views

Mumbai. सरकारी स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता को और बेहतर करने की ओर सरकारें पहल कर रही हैं। इसी क्रम में बने नियमों के अंतर्गत अब करीब 7000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक शिक्षकों (Primary and upper primary teachers) की नौकरी पर खतरा छा गया है। किसी भी समय उन्हें इस नौकरी से निकाला जा सकता है। 

10-02-2020165223Salaryof70001

दरअसल, सरकार ने कक्षा पहली से 8वीं तक के शिक्षकों के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET - Teachers Eligibility Test) पास करना अनिवार्य कर दिया है। जिन शिक्षकों ने ये परीक्षा पास नहीं की होगी और नौकरी कर रहे हैं, उन्हें 30 मार्च 2019 तक टीईटी पास करने का समय दिया गया था। ये फैसला महाराष्ट्र सरकार ने लिया था। 

इस समय सीमा को समाप्त हुए करीब 1 साल बीत चुका है, लेकिन अब भी करीब 7 हजार शिक्षक ये परीक्षा पास करने में असफल हैं। एक मीडिया चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, इन शिक्षकों का वेतन भी एक जनवरी 2020 से बंद कर दिया गया है। अब इनकी नौकरी पर भी खतरा मंडरा रहा है। 

10-02-2020165242Salaryof70002

महाराष्ट्र सरकार के टीईटी अनिवार्य करने के फैसले को शिक्षकों ने बॉम्बे हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। इस पर सुनवाई करते हुए जस्टिस एससी धर्माधिकारी और जस्टिस आरआई चागला की बेंच ने सरकार की टीईटी अनिवार्यता की नीति में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया। कोर्ट ने कहा कि 'जनहित के लिए यही उचित है। ऐसी नीतियां शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए बनाई जाती हैं। ये तभी हो सकता है जब योग्य शिक्षकों की नियुक्ति हो।'

यह भी पढ़ें... विदेशों में नौकरी दिलाने के नाम पर 500 से ज्यादा बेरोजगारों से ठगी, आरोपी गिरफ्तार

कोर्ट ने कहा कि 'बच्चे का व्यक्तित्व शुरुआती शिक्षा से ही बनने लगता है। अगर इस समय उनमें सही मूल्य नहीं बताए गए, उन्हें गणित, सामाजिक अध्‍ययन, भाषा जैसे विषयों की सही समझ नहीं दी गई, तो शिक्षा से उनकी रुचि हट सकती है।'

Web Title: Salary of 7000 teachers who failed in TET may be discontinued, dismissed ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया