पद्मश्री डॉ. गिरिराज किशोर को नम आंखों से दी गई अंतिम विदाई


NP1357 10/02/2020 18:16:49
35 Views

Lucknow. पद्मश्री डॉ. गिरिराज किशोर को हजारों लोगों ने नम आंखों से सोमवार को अंतिम विदाई दी। सोमवार सुबह से उनके अंतिम दर्शन को हजारों लोगों की भीड़ आवास पहुंची। सभी राजनीतिक दल के नेता, जनप्रतिनिधि और समाजसेवी साहित्यकार को श्रद्धासुमन अर्पित करने के लिए पहुंचे। कानपुर के शूटरगंज स्थित उनके आवास से जब अंतिम यात्रा निकली तो लोगों की आंखों से सैलाब बह पड़ा। रविवार सुबह ह्दयगति रुक जाने की वजह से डॉ. गिरिराज किशोर का निधन हो गया था।

10-02-2020181848LastFarewell1

साहित्य और लेखनी से समाज को दिशा देने वाले पद्मश्री गिरिराज किशोर ने अपना देहदान किया था। सोमवार सुबह 10 बजे उनके निवास से अंतिम यात्रा जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के लिए निकली। बेटे अनीस की मौजूदगी में देहदान संस्था के प्रमुख मनोज सेंगर ने धार्मिक रीति-रिवाज के मुताबिक पार्थिव शरीर का संस्कार किया। इसके बाद पार्थिव शरीर को मेडिकल कॉलेज को समर्पित कर दिया गया।

यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री सतीश महाना, गोविंदनगर से बीजेपी विधायक सुरेंद्र मैथानी, कानपुर की पूर्व सांसद सुभाषिनी अली समेत कई राजनीतिक दलों के कद्दावर नेता और समाजसेवी पद्मश्री डॉ. गिरिराज किशोर को श्रद्धासुमन अर्पित करने के लिए पहुंचे। 

10-02-2020181853LastFarewell2

कानपुर में की साहित्य साधना

पद्मश्री से सम्मानित डॉ. गिरिराज किशोर मूलरूप से यूपी के मुजफ्फरनगर निवासी थी। डॉ. गिरिराज किशोर कई दशक पहले कानपुर में आकर बस गए। शूटरगंज स्थित एल्गिन मिल के सामने उनका निवास है। कानपुर में रहकर डॉ. गिरिराज जी ने साहित्य साधना की। दक्षिण अफ्रीका में मोहनदास के महात्मा गांधी बनने तक के संघर्ष को उपन्यास के रूप में 'पहला गिरमिटिया' उकेरकर उन्होंने साहित्य जगत में विशेष स्थान बनाया।

उनकी रचनाओं में 'ढाई घर' और 'पहला गिरमिटिया' चर्चित उपन्यास शामिल हैं। 8 जुलाई 1937 को जमींदार परिवार में जन्मे गिरिराज किशोर ने काफी कम उम्र में ही स्वतंत्र लेखन का कार्य शुरु कर दिया था।

यह भी पढ़ें- 

छत्तीसगढ़ मुठभेड़ में ​सीआरपीएफ के दो कमांडो शहीद,एक नक्सली भी ढ़ेर

शाहीन बाग प्रदर्शन: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, दूसरे पक्ष को सुने बिना नहीं दे सकते निर्देश

गार्गी कॉलेज की छात्राओं से छेड़छाड़ के मामले ने पकड़ा तूल, संसद पहुंचा

भाजपा संविधान से आरक्षण को हटाना चाहती है: राहुल गांधी

Web Title: Last Farewell to Padmashri Dr. Giriraj Kishore with moist eyes ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया