अयोध्या में राम मंदिर का रास्ता साफ, मस्जिद की जमीन को लेकर नाखुश मुस्लिम समाज


NAZO ALI SHEIKH 11/02/2020 09:59 AM
33 Views

Ayodhya. आयोध्या (Ayodhya) मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आए फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण (Ram temple construction) के लिए केंद्र सरकार ने ट्रस्ट (Trust) बना दिया है, तो वहीं उत्तर प्रदेश सरकार (Government of Uttar Pradesh) ने मुस्लिम समाज को दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन को भी मंजूरी दे दी है। हालांकि मुस्लिम पक्ष राज्य सरकार द्वारा दी गई जमीन को लेकर नाखुश नजर आ रहा है। 

Way clear for Ram temple in Ayodhya, but Muslim society unhappy over mosque land

दरअसल, संत समाज पूर्व से ही मांग कर रहे थे कि मुस्लिमों को दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन अयोध्या के सांस्कृतिक सीमा के बाहर दी जाए, जिसके बाद रौनाही में मुस्लिम समाज को जमीन दी गई।

  रौनाही में मिली मस्जिद की जमीन 

मुस्लिम समाज रौनाही में दी गई जमीन को स्वीकार नहीं कर रहा है। उधर संत समाज के लोगों ने मस्जिद के लिए रौनाही में आवंटित की गई जमीन का स्वागत किया है। संत समाज ने कहा है कि योगी सरकार को साधुवाद है, लेकिन बाबर के नाम पर अयोध्या ही नहीं पूरे देश में मस्जिद स्वीकार नहीं है। बाबर के नाम पर एक भी ईंट स्वीकार नहीं की जाएगी। इसका संत समाज पुरजोर विरोध करेगा। 

  अयोध्या में चाहिए जमीन

मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी रौनाही में मस्जिद के लिए जमीन दिए जाने पर नाखुश दिखे। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने आयोध्या में ही जमीन देने के लिए कहा है। लिहाजा मस्जिद की जमीन अयोध्या के अंदर ही दी जानी चाहिए। अंसारी ने कहा, हमें एतराज नहीं है। हम मलबे की बात भी नहीं करते हैं। हम यह चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में मस्जिद के लिए जमीन देने की बात कही है और वही हमें  मिलनी चाहिए।

बता दें कि सरकार ने जो जमीन मस्जिद के लिए आवंटित की है, वह अयोध्या के सांस्कृतिक परिक्षेत्र से बाहर है। करीब 25 किलोमीटर की दूरी पर मस्जिद के लिए जमीन चिन्हित की गई है। इसी को लेकर मुस्लिम पक्ष नाराज दिख रहा है।

Web Title: Way clear for Ram temple in Ayodhya, but Muslim society unhappy over mosque land ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया