लोक रीति रिवाज प्रदर्शनी का अधिक से अधिक लाभ उठाएं : डाॅ. नीलकंठ तिवारी


NP1181 14/02/2020 11:32:11
26 Views

LUCKNOW. राज्य ललित कला अकादमी उ0प्र0 की क्षेत्रीय कला प्रदर्शनी की योजना के अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 में प्रदेश को 07 क्षेत्रों में वर्गीकृत करते हुए क्षेत्रीय कला प्रदर्शनियों का आयोजन किया जा रहा है। इसी के क्रम में लखनऊ, प्रयागराज क्षेत्र की प्रदर्शनी का उद्घाटन एवं पुरस्कार वितरण अकादमी परिसर लाल बारादरी भवन, कैसरबाग, लखनऊ में किया गया। प्रदर्शनी का उद्घाटन मुख्य अतिथि डाॅ. नीलकंठ तिवारी, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), संस्कृति विभाग, उत्तर प्रदेश एवं विशिष्ट अतिथि जितेन्द्र कुमार, प्रमुख सचिव, संस्कृति, पर्यटन भाषा एवं सामान्य प्रशासन, उ0प्र0 शासन के कर कमलों द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। 

14-02-2020113632etthemostou

डाॅ0 नीलकंठ तिवारी ने प्रदर्शनी के पुरस्कृत 03 कलाकारों शिखा पाण्डेय-लखनऊ, उत्कर्ष जायसवाल-प्रयागराज एवं पल्लवी सिंह-मऊ को अकादमी की ओर से पुरस्कार राशि, स्मृति चिन्ह, प्रमाण पत्र प्रदान किए तत्पश्चात अकादमी की नवीनीकृत वेबसाइट का लोकार्पण किया तथा अकादमी द्वारा लोक कलाओं पर आधारित विशिष्ट प्रकाशन के रूप में प्रकाशित ‘लोक रीति-रिवाज’ ग्रन्थ का विमोचन भी किया गया व ग्रन्थ के लेखक डाॅ. रामशब्द सिंह - सहारनपुर को अंगवस़्त्र देकर सम्मानित किया गया।

14-02-2020114200etthemostou2

डाॅ0 नीलकंठ तिवारी ने किया अकादमी की नवीनीकृत वेबसाइट का लोकार्पण

श्री तिवारी ने अकादमी एवं इंस्टीट्यूट आफ फाइन आर्ट्स, छत्रपति शाहूजी महाराज, विश्वविद्यालय, कानपुर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय चित्रकार शिविर में सृजित कृतियों की प्रदर्शनी का उद्घाटन एवं शिविर के कैटेलाॅग का विमोचन भी किया। अंतर्राष्ट्रीय चित्रकार शिविर के कानपुर विश्वविद्यालय में स्थानीय संयोजक के रूप में कार्यक्रम को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने वाले डाॅ. बृजेश स्वरूप कटियार, विभागाध्यक्ष, ललित कला संस्थान, कानपुर विश्वविद्यालय, कानपुर को अंगवस़्त्र देकर सम्मानित किया गया।

लोक रीति-रिवाज अमूल्य ग्रन्थ काकिया प्रकाशन   

पुस्तक के मुख्य आकर्षण गोधना, कोहबर, नागपंचमी के अवसर पर बनने वाले चित्रों पर भी चर्चा की गयी। कार्यक्रम की अध्यक्षता अकादमी के अध्यक्ष, डाॅ. राजेन्द्र सिंह पुण्ढीर द्वारा की गयी। समारोह के मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि, कलाकारों, कला प्रेमियों, प्रेस प्रतिनिधियों एवं गणमान्य अतिथियों का स्वागत अकादमी के सचिव, डाॅ. यशवन्त सिंह राठौर द्वारा किया गया।

14-02-2020114102etthemostou1

डाॅ. राठौर ने क्षेत्रीय कला प्रदर्शनी की योजना के सम्बन्ध में बताया कि अकादमी की गतिविधियों को विकेन्द्रित करने की दृष्टि से तथा प्रदेश के दूरस्थ अंचलों में निवासरत् कलाकारों को अकादमी की गतिविधियों में सम्मिलित करने के उद्देश्य से क्षेत्रीय कला प्रदर्शनियों का आयोजन किया जाता है। डाॅ. राठौर ने अवगत कराया कि राज्य ललित कला अकादमी, उ0प्र0 की लगभग 20 साल बाद नवीनीकृत वेबसाइट तैयार कर लोकार्पित की गयी है।

इस वेबसाइट के माध्यम से ललित कला अकादमी न केवल प्रदेश के बल्कि अन्य प्रदेशों के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल रूप में अपनी गतिविधियों को प्रचारित एवं प्रसारित करने में अग्रसर होगी। लोक कला के क्षेत्र में अकादमी द्वारा एक अमूल्य ग्रन्थ ‘लोक रीति-रिवाज’ प्रकाशित किया गया है। इस ग्रन्थ के माध्यम से हमारी लोक विरासत के प्रतीक चौक पूरना, कोहबर, विवाह-गारी गीत, चैत्र नवमी, सांझी, अहोई अष्टमी, दीपावली, गोधन पूजा, पीड़िया, छठ पर्व, देवउठानी एकादशी, गोदना, सती-चौरा, डीह-चौरा आदि से सम्बन्धित चित्रों के महत्व एवं प्राचीनता से सभी परिचित हो सकेंगे।

साथ ही अवगत कराया कि प्रदर्शनी दिनांक 17 जनवरी, 2020 तक पूर्वान्ह 11ः00 बजे से सायं 06ः00 बजे तक जनसामान्य के अवलोकनार्थ खुली रहेगी।

Web Title: et the most out of public customs exhibition - Dr. Neelkanth Tiwari ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया