ब्लाक संसाधन केंद्र में निष्ठा योजना को लग रहा भ्रष्टाचार का दीमक


D. K. SHUKLA 21/02/2020 10:39:00
85 Views

. स्वास्थ्य बिगड़ने के डर से अपना लंच बाक्स लेकर आते हैं शिक्षक

Unnao. देश और समाज के लिए श्रेष्ठ नागरिक तैयार करने की बड़ी जिम्मेदारी का निर्वाह करने वाले शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार ने अपनी जड़ें गहराई तक जमा ली हैं, जिसे लेकर विभाग अक्सर सुर्खियों में बना रहता है। ताजा मामला निष्ठा प्रशिक्षण कार्यक्रम के नाम पर हो रहे खेल का है। ब्लॉक संसाधन केंद्र बीघापुर में बीते तीन दिनों से चल रहे इस कार्यक्रम में जो कुछ गोचर हो रहा है, वह कुछ इसी ओर इशारा करता नजर आ रहा है। इस कार्यक्रम के लिए शासन से जारी की गयी धनराशि को व्यय करने में विभागीय मानकों को ताक पर रखा जा रहा है। जिसकी चर्चा करते यहां आने वाले शिक्षक अक्सर दिख जाते हैं। 

21-02-2020111031Nishthascheme1
 

बता दें कि ब्लाक संसाधन केंद्र पर निष्ठा प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रतिदिन 150 शिक्षक शामिल हो रहे हैं। प्रशिक्षण में आने वाले शिक्षकों के नाश्ते और भोजन के लिए शासन से पर्याप्त धनराशि भी स्वीकृत की गयी है। शासन से जारी गाइड लाइन के मुताबिक, एक शिक्षक पर नाश्ते और भोजन के लिए 200 रुपए की व्यवस्था की गयी है। किस दिन क्या खाना या नाश्ता रहेगा, इसका विधिवत मेन्यू भी जारी किया गया है। लेकिन इन गाइड लाइन्स पर विभाग में व्याप्त कमीशनखोरी हावी है। बीते तीन दिनों से यहां प्रशिक्षण के लिए आने वाले शिक्षकों को नाश्ते में चाय नाश्ता तो भोजन के रूप में छोला पूरी परोसा जा रहा है। जो नाश्ता या भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है उसकी गुणवत्ता खराब होने के चलते शिक्षक अपने स्वास्थ्य को लेकर सशंकित हैं। 

21-02-2020111103Nishthascheme2

हलांकि, अपने उच्चाधिकारी के खिलाफ कुछ बोलने की हिम्मत भी नहीं जुटा पा रहे हैं। नतीजे में प्रशिक्षण के लिए आने वाले तमाम शिक्षक अपने घरों से टिफिन लेकर आ रहे हैं। शिक्षक बीईओ की कारगुजारियों को लेकर कानाफूसी तो कर रहे हैं किंतु भय के कारण खुलकर विरोध नहीं कर पा रहे।

शासनादेश के मुताबिक किसी मद पर एक लाख से अधिक धनराशि का व्यय का बकायदा टेंडर जारी कर सीजीएसटी रजिस्टर्ड फर्म के माध्यम से होना है। किंतु संसाधन केंद्र में प्रशिक्षण के पहले दिन से ही परिसर में ही हलवाइयों द्वारा मनमाने तरीके से नाश्ता व खाना बनवाकर शिक्षकों को दिया जा रहा है। विभागीय सूत्रों के मुताबिक खाने में घटिया किस्म के मसाले व तेल का इस्तेमाल किया जा रहा है। 

21-02-2020111136Nishthascheme3

इस संबंध में बीईओ नसरीन फारुकी से बात की गई तो उनका कहना था कि खाने के मेन्यू में शिक्षकों के टेस्ट के मुताबिक बदलाव किया गया है, जबकि टेंडर की बात पर उनका कहना था कि खाने पीने की आपूर्ति के लिए फार्म को ठेका दिया गया है किंतु ठेका किस फर्म को दिया गया है। हालांकि फर्म का नाम बताने से वह कतराती नजर आयी।

यह भी पढ़ें...एंड्रॉयड फोन खतरे में, यूजर्स की बढ़ी मुश्किलें

Web Title: Nishtha scheme in the block resource center, termites of corruption ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया