सरकार बचाने के लिए सीएम गहलोत ने शुरू किया ये खुफ़िया मिशन
सरकार बचाने के लिए सीएम गहलोत ने शुरू  किया ये खुफ़िया मिशन

Jaipur. राजस्थान (Rajasthan) में सचिन पायलट (Sachin Pilot) और अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के बीच खींचतान जारी है। अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को बिधानसभा सत्र बुलाने की अनुमति भले ही मिल गयी हो, लेकिन अभी भी सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। ऐसे में सीएम गहलोत के लिए बिधानसभा सत्र शुरू होने तक विधायकों (MLA) को सुरक्षित रखना एक बड़ी चुनौती है। वहीं, गहलोत अपने विधायकों को जयपुर (Jaipur) से जैसलमेर (Jaisalmer) के सूर्यगढ़ में शिफ्ट करने की तैयारी कर रहे हैं। 

सूत्रों के मुताबिक गहलोत खेमे (CM Ashok Gehlot) के सभी विधायकों को प्राइवेट जेट के जरिये जैसलमेर शिफ्ट किया जाएगा। इसके लिए सभी विधायकों से 15 दिन का सामान और आईडी घर से मंगाकर साथ रखने को कहा गया है। वहीं, विधायकों को शिफ्ट करने को लेकर जैसलमेर में पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई है। बताया जा रहा है कि सीएम अशोक गहलोत शुक्रवार को फेयरमॉन्ट होटल (hotel fairmont) में विधायकों के साथ बैठक कर आगे की रणनीति तय करेंगे। इससे पहले गहलोत (Ashok Gehlot) अपने विधायकों के साथ गुरुवार को बैठक की थी। 

सीएम गहलोत (CM Gehlot) ने एक बार फिर भाजपा पर आरोप लगाया है कि विधानसभा सत्र के ऐलान के बाद से ही विधायकों की कीमत अनलिमटेड हो गई है। उन्होंने बागियों पर हमला करते हुए कहा कि जो लोग गए हैं, उनमें से कुछ लोग तो पहली किश्त ले भी चुके है। जिन लोगों ने नहीं लिए है उनके लिए कांग्रेस के दरवाजे खुले है।  दूसरी तरफ विधायकों की घेराबंदी पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया (Satish Puniy) ने सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार बहुमत में है, सभी विधायक साथ है तो विधायकों को बंधक बना कर क्यों रखा जा रहा है। 

बता दें कि सचिन पायलट (Sachin Pilot) और उनके समर्थक 19 विधायकों की बगावत के बाद से सीएम अशोक गहलोत ने (CM Ashok Gehlot) अपने विधायकों को एकजुट करना शुरू कर दिया था। वहीं, 13 जुलाई से कांग्रेस के विधायकों को होटल फेयरमॉन्ट में रखा गया है। सीएम समेत पूरा मंत्रिमंडल होटल से सारा काम कर रहे है।