जमीन कब्जा के विरोध पर दबंगों ने की दलित की थी पिटाई, दो महीने से इंसाफ के लिए भटक रहा पीड़ित
जमीन कब्जा के विरोध पर दबंगों ने की दलित की थी पिटाई, दो महीने से इंसाफ के लिए भटक रहा पीड़ित

 LUCKNOW. पिछले दिनों प्रदेश में सामने आयी आपराधिक घटनाओं ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किए। साथ ही पुलिस महकमें की भी खूब किरकिरी हुई। इसके बावजूद पुलिस (Police) अपना रवैया बदलने को तैयार नहीं। ताजा मामला माल थाना क्षेत्र का है, जहां पर सरकारी जमीन पर कब्जा करने के विरोध पर मारपीट करने वाले दबंगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। इस मामले में पीड़ित कई प्रार्थना पत्र अधिकारियों को सौंप चुका है। इसके बावजूद एफ़आईआर दर्ज नहीं की गयी। यही नहीं इस मामले में सांसद कौशल किशोर (MP Kaushal Kishor) भी सीओ मलिहाबाद (CO Malihabad) और प्रभारी निरीक्षक थाना माल  (SHO MALL) को पत्र लिख चुके हैं।  

इस मामले में पीड़ित चन्द्रिका ने बताया कि पहली जून को उनके गांव केड़ौरा के ही रामऔतार, राजू, विजय, पिंटू सरकारी नलकूप संख्या 65 के पास पड़ी परती जमीन पर कब्जा कर रहे थे। कब्जा करने से मना करने पर गालियां देने लगे। तब सभी ने कहा कि इसी को ठीक कर देते हैं जिससे दोबारा मना करने न आए,इस पर सभी ने मारा पीटा।

घटना की सूचना पुलिस और एसडीएम को दी। मौके पर पहुंचे लेखपाल और दरोगा ने कब्जा करने से तो रोक दिया लेकिन दबंगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गयी। पीड़ित ने बताया कि वह पिछले दो माह से लगातार थाने से लेकर सीओ तक चक्कर लगा रहा हूं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इस मामले में चन्द्रिका ने कई बार सांसद कौशल किशोर से प्रभारी निरीक्षक माल और सीओ मलिहाबाद के लिए पत्र लिखा, लेकिन इसका कोई असर नहीं दिखा। 

सीओ ने चन्द्रिका से कहा कि थाने जाइए मैने थाने में कह दिया है तुम्हारी रिपोर्ट दर्ज हो जाएगी लेकिन थाना पहुंचने पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।